देवरिया में कत्लेआम करने वालों के घर 10 घंटे तक हुई नाप-जोख, क्या चलेगा बुलडोजर?

देवरिया ,

देवरिया हत्याकांड में पुलिस ने 16 आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. फरार चल रहे लोगों की तलाश जारी है. गांव में चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल की तैनाती है. पुलिस-प्रशासन ने नामजद हत्यारोपियों के खिलाफ सख्त रुख अपनाया है. बीते दिन राजस्व विभाग की टीम ने हत्यारोपियों के मकान, जमीन, खलिहान आदि की नाप-जोख (पैमाइश) की, जो करीब 10 घंटे तक चली.

बता दें कि सत्यप्रकाश दुबे की जिंदा बची बेटी शोभिता ने सरकार से मांग की है कि उसके परिवार के 5 लोगों की हत्या करने वालों का एनकाउंटर हो या फिर उनको फांसी की सजा दिलाई जाए. इसके अलावा शोभिता ने बुलडोजर की कार्रवाई करने की भी मांग की है.

कल (3 अक्टूबर) प्रशासन ने राजस्व विभाग की टीम से सत्यप्रकाश दुबे परिवार की हत्या के नामजद 16 आरोपियों की प्रॉपर्टी की पैमाइश करवाई है. ताकि उनके अवैध कब्जे या अवैध निर्माण की जांच हो सके. इसके बाद से ही कहा जाने लगा कि पुलिस-प्रशासन जल्द ही अवैध निर्माण/कब्जे पर बुलडोजर की कार्रवाई कर सकता है. गौरतलब है कि अवैध कब्जे के मुद्दे को देवरिया सदर से बीजेपी विधायक शलभ मणि त्रिपाठी ने उठाया था.

अब तक 16 हत्यारोपी गिरफ्तार
मालूम हो कि सत्य प्रकाश दुबे व उनके परिवार की नृशंस हत्या के मामले में पुलिस ने 3 अक्टूबर को 16 अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. आरोपियों के पास से पुलिस ने हत्या में इस्तेमाल लोहे की रॉड, फावड़ा और तीन डंडे बरामद किए हैं. वहीं, हत्याकांड में शामिल अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है.

2 अक्टूबर को रुद्रपुर कोतवाली थाना क्षेत्र के फतेहपुर गांव के लेहड़ा टोला में पहले पूर्व जिला पंचायत सदस्य प्रेमचंद यादव की हत्या हुई थी. उसका बदला लेने के लिए सत्य प्रकाश दुबे व उनकी पत्नी दो बेटी एक बेटा समेत पांच सदस्यों की निर्मल हत्या कर दी गई थी.

दोनों पक्षों ने दर्ज करवाई है FIR
जमीन विवाद में हुए इस हत्याकांड में दोनों पक्षों (प्रेमचंद्र यादव और सत्यप्रकाश दुबे) की ओर से 33 नामजद और 50 अज्ञात लोगों पर केस दर्ज कराया गया है. पुलिस ने इस मामले में अब तक 16 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. इलाके के माहौल को शांत रखने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों की टीम भारी पुलिस फोर्स के साथ गांव में मौजूद है.

घटना में मारे सत्यप्रकाश दुबे की बेटी शोभिता की तहरीर पर 28 नामजद और 50 अज्ञात लोगों पर मुकदमा दर्ज हुआ है. इन सभी पर आईपीसी की धारा 147, 148, 149, 34, 323, 427, 352, 452, 504, 307 और धारा 302 के तहत रुद्रपुर कोतवाली थाने में केस दर्ज हुआ है. वहीं, मृतक प्रेमचंद यादव के चचेरे भाई ने दुबे परिवार के 5 लोगों पर प्राथमिकी दर्ज कराई है.

बीजेपी विधायक बोले- भूमाफियाओं के खिलाफ निर्णायक जंग
इससे पहले बीजेपी विधायक शलभ मणि त्रिपाठी ने सोशल मीडिया के जरिए कहा था कि इस पूरे घटनाक्रम को सीएम योगी आदित्यनाथ को अवगत करा दिया गया है, वे स्वयं इस पूरे मामले में नजर बनाए रखे हुए हैं. भूमाफियाओं के खिलाफ निर्णायक जंग लड़ी जाएगी। वे किसी भी प्रकार से बचेंगे नहीं, चाहे उन्हें किसी का भी सियासी सरपरस्ती हासिल हो.

शलभ मणि त्रिपाठी ने आगे कहा था कि बेबस लोगों, बेटियों और मासूम बच्चों पर हमला करने वाले भूमाफिया कायर और नपुंसक हैं. उनका उचित और कानूनी इलाज होकर रहेगा. साथ ही इस मामले में दोषी महाभ्रष्ट राजस्व अधिकारी/ कर्मचारी एवं प्रशासनिक अधिकारी भी अपनी करनी का फल भुगतने को तैयार रहें

About bheldn

Check Also

मुगलों के ताजमहल से लड़ने को तैयार है आगरा की ये सफेद इमारत, 104 साल में हुई तैयार, अब यहां का भी लगेगा टिकट

आगरा का नाम आते ही, जहन में सबसे पहला नाम ताजमहल का आता है, और …