इजरायल के समर्थन में गूंजा ‘जय श्रीराम’… शांति बहाली के लिए राजस्थान में हुआ हवन, पुजारियों ने कही ये बात

पुष्कर,

राजस्थान के पुष्कर में इजरायली पर्यटकों और तीर्थ पुरोहितों ने इजरायल में शांति की बहाली के लिए सामूहिक रूप से प्रार्थना की. हमास के द्वारा इजराइल पर हमला किए जाने से तीर्थ पुरोहितों में भी गुस्सा है. तीर्थ पुरोहितों ने कहा कि आतंकी संगठन हमास के खिलाफ सख्त एक्शन लिए जाने की जरूरत है.

पूरे देश में पुष्कर पहला तीर्थ स्थल है, जहां इजराइल के लिए प्रार्थना की गई है. भारत के प्रधानमंत्री मोदी ने भी इजरायल के सहयोग की बात की है. पुष्कर में हजारों की तादात में इजरायल पर्यटक आते हैं और यहां पूजा अर्चना करते हैं. पुष्कर में पर्यटन की वजह से स्थानीय लोगों का व्यापार भी चलता है.इजरायल और हमास के बीच युद्ध के चलते यहां से इजरायली पर्यटन अपने देश लौट रहे हैं. इस कारण यहां पर्यटकों की संख्या घट रही है. तीर्थ पुरोहित संजय पाराशर ने कहा कि हमास के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए.

हमास के साथ आरपार का युद्ध चाहते हैं इजरायली
इजरायल के रहने वाले कई नागरिक राजस्थान के पुष्कर में ठहरे हुए हैं. इन इजरायली नागरिकों के मन में हमास को लेकर भारी आक्रोश है. ये लोग हमास के साथ फाइनल आरपार की लड़ाई चाहते हैं. इजरायली पर्यटकों ने कहा कि हमास के आतंकियों ने बच्चों और सैनिको को बिना किसी वजह के मौत के घाट उतार दिया है. 12 सौ से भी ज्यादा लोग मारे गए हैं. महिलाओं के साथ रेप, छेड़छाड़ जैसी घटनाएं कर रहे हैं. अब हमास को छोड़ेंगे नहीं. कई इजराइली नागरिकों ने कहा कि वे भारत से इजरायल पहुंचते ही युद्ध करने चले जाएंगे.

इजरायल को लेकर सवाल पर फूट-फूटकर रोने लगी महिला
बता दें कि पुष्कर में अभी 200 सौ इजरायली पर्यटक मौजूद हैं. पर्यटक तेजी से यहां से जा रहे हैं. भारत सरकार की हरी झंडी मिलते ही ये लोग इजरायल के लिए रवाना हो जाएंगे. इन नागरिकों ने प्रधानमंत्री मोदी और भारत के लोगों की तारीफ की. एक पर्यटक से जब इजरायल के हालात को लेकर सवाल किया गया तो वह फूट-फूटकर रोने लगी. इस दौरान साथी महिलाओं ने उसे संभाला.एक इजरायली महिला को इंग्लिश नहीं आती थी, उसने आजतक से हिब्रू (Hebrew) इजरायली भाषा में बातचीत की और अपना दर्द और गुस्सा जाहिर किया.

युद्ध के बाद से शुरू हो गया है पर्यटकों का पलायन
हमास के साथ जब से इजरायल का युद्ध शुरू हुआ, तब से पुष्कर से इजरायली पर्यटकों का पलायन शुरू हो गया है. अब केवल 200 पर्यटक हैं, वह भी जाने की तैयारी में हैं.इजरायली नागरिक जहां ठहरे हुए हैं, वहां सरकार ने चार पुलिस वालों को सुरक्षा में तैनात कर रखा है. सशस्त्र जवान इनके धर्मस्थल ‘बेद खबाद’ के डटे रहते हैं. समय-समय पर पुलिस के आला अधिकारी भी यहां दौरा करते हैं.

इजरायल की पर्यटक नीता ने कहा कि हमास ने हमारे यहां आम लोगों को निशाना बनाया है. इजरायल की एबी ने कहा कि यह वार अब इजरायल और हमास का नहीं है, पूरे यूरोप का है. हमास आतंक का पर्याय है. बच्चों और बड़ों को बिना कसूर मार रहा है.

‘इजरायल पहुंचते ही युद्ध में चला जाऊंगा…’ बोले भारत घूमने आए अमत
एक अन्य पर्यटक इदान ने कहा कि अब हमास के साथ फाइनल लड़ाई होगी. इजरायल के सहयोग की बात पर इन पर्यटकों ने प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की और कहा कि भारतीय लोग उनकी सहायता करते हैं. अमत नाम के पर्यटक ने कहा कि पंद्रह अक्टूबर को इजरायल जाते ही युद्ध के मैदान में चला जाऊंगा, क्योंकि हमास ने बच्चों, महिलाओं और सैनिकों को बिना किसी वजह के निशाना बनाया है. (रिपोर्टः दिनेश पाराशर)

About bheldn

Check Also

‘ये क्योटो क्या जापान वाला है…’, जब स्टेज पर अखिलेश-राहुल ने की चर्चा, बेरोजगारी-महंगाई पर सरकार को घेरा

नई दिल्ली, उत्तर प्रदेश में कांग्रेस नेता राहुल गांधी समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव …