चुनाव परिणाम से पहले गहलोत के लिए बुरी खबर, योगी का UP राजस्थान को पछाड़कर फिर बना अव्वल

लखनऊ:

राजस्‍थान विधानसभा चुनाव के नतीजे 3 दिसंबर को आने वाले हैं। चुनाव परिणाम से पहले वहां के मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत के लिए बुरी खबर आई है। अभी तक दुग्‍ध उत्‍पादन में नंबर वन चल रहे राजस्‍थान को उत्‍तर प्रदेश ने इस साल पीछे छोड़ दिया है। पशुपालन सांख्यिकी रिपोर्ट के मुताबिक, 2022-23 के दौरान दूध का उत्पादन 3.83 प्रतिशत बढ़ गया है। इस लिस्‍ट में यूपी नबर वन है जिसकी कुल दुग्ध उत्पादन में हिस्सेदारी 15.72 प्रतिशत है। इसके बाद राजस्थान (14.44 प्रतिशत), मध्य प्रदेश (8.73 प्रतिशत), गुजरात (7.49 प्रतिशत) और आंध्र प्रदेश (6.70 प्रतिशत) का स्थान है। रिपोर्ट में कहा गया कि वर्ष 2022-23 के दौरान देश में दुग्ध उत्पादन 23.05 करोड़ टन होने का अनुमान है।

पिछले साल की रिपोर्ट में राजस्‍थान पहले स्‍थान पर था। लंपी वायरस की वजह से उत्‍तर प्रदेश में बड़ी संख्‍या में गोवंश की मौत हुई थी। इसलिए यूपी राजस्‍थान से पिछड़ गया था पर इस साल उसने दोबारा नंबर एक की कुर्सी काबिज कर ली है। गौरतलब है कि यूपी की योगी आदित्‍यनाथ सरकार दुधारू पशुओं के संरक्षण के लिए लगातार काम कर रही है। कानपुर, लखनऊ, मेरठ, वाराणसी, कन्‍नौज, गोरखपुर समेत कई प्रमुख जिलों में ग्रीनफील्‍ड डेयरियां स्‍थापित की जा रही हैं। यूपी सरकार ने सभी जिलों में गोरक्षा केंद्र बनाने के लिए बजट में 272 करोड़ रुपये पास किए हैं। साथ ही सबसे ज्‍यादा दूध उत्‍पादकों को पुरस्‍कार भी दिया जा रहा है। जिन किसानों ने दुग्‍ध उत्‍पादन के लिए रजिस्‍ट्रेशन करा रखा है, उनको क्रेडिट कार्ड जैसी सुविधा भी दी जा रही है।

यूपी के 36 जिलों में फैला था लंपी वायरस, सैकड़ों पशुओं की हुई मौत
तीन दिन पहले केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री ने परषोत्तम रूपाला ने पशुपालन सांख्यिकी 2023 रिपोर्ट जारी की था। यह रिपोर्ट पशु एकीकृत नमूना सर्वेक्षण (मार्च 2022 से फरवरी 2023) पर आधारित है। पिछले साल 2022 में यूपी के गोवंशी पशुओं में लंपी स्किन डिजीज तेजी के साथ फैला था। राज्‍य के 36 जिले लंपी रोग से प्रभावित थे। सैकड़ों पशुओं की मौत इस बीमारी के चलते हो गई थी। पशुओं को इस बीमारी से बचाने के लिए बड़ी संख्‍या में वैक्‍सीनेशन किया गया था।

राजस्‍थान में 1800 से ज्‍यादा प्रत्‍याशियों की किस्‍मत कैद
आपको बता दें कि राजस्‍थान में गत 25 नवंबर को 199 विधानसभा सीटों पर चुनाव हुए थे। जनता ने 1800 से ज्‍यादा प्रत्‍याशियों की किस्‍मत को ईवीएम में कैद कर दिया है। मतदान प्रतिशत 75.45 फीसदी रहा जो कि पिछले विधानसभा चुनाव 2018 की तुलना में ज्यादा है। वैसे तो राजस्‍थान में 200 विधानसभा सीटें हैं पर मतदान 199 पर ही कराया गया है। दरअसल चुनाव आयोग ने कांग्रेस उम्‍मीदवार गुरमीत सिंह कूनर के निधन के कारण करणपुर विधानसभा सीट पर चुनाव स्‍थगित कर दिया है। यहां चुनाव बाद में कराए जाएंगे।

About bheldn

Check Also

‘नीतीश का NDA में लौटना नुकसानदेह’, दीपांकर भट्टाचार्य ने JDU-BJP दोस्ती को लेकर किया बड़ा खुलासा, सियासी हलचल तय

पटना भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) लिबरेशन के नेता दीपांकर भट्टाचार्य ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश …