शिवसेना BJP के खूंटे से बंधी हुई नहीं है, एकनाथ शिंदे गुट के सांसद कीर्तिकर क्यों हैं नाराज

मुंबई:

मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की बीजेपी परस्ती से उनके सांसद नाराज हैं। बीजेपी के साथ सीटों के बंटवारे को लेकर मुख्यमंत्री की चुप्पी से सांसदों की नाराजगी बढ़ती जा रही है और धीरे-धीरे वह मुख्यमंत्री के खिलाफ बोलने लगे हैं। शिवसेना के सांसद गजानन कीर्तिकर ने कहा है कि शिवसेना बीजेपी के खूंटे से बंधी हुई नहीं है। हम किसी को उसे बांधने भी नहीं देंगे। हमारी अपेक्षा सिर्फ इतनी है कि हमारे साथ विश्वास घात नहीं होना चाहिए।

दरअसल कुछ दिन से राजनीतिक सर्कल में यह चर्चा है कि बीजेपी, शिवसेना एकनाथ शिंदे और एनसीपी अजीत पवार गुट के बीच महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों के बंटवारे का फार्मूला तय हो गया है। जिसके मुताबिक बीजेपी अकेले 32 सीटों पर, शिवसेना शिंदे 12 सीटों पर और एनसीपी अजीत पवार 4 सीटों पर चुनाव लड़ने वाले हैं। लेकिन 32-12-4 के इस फार्मूले को मानने से शिवसेना शिंदे गुट के मुंबई उत्तर पश्चिम सीट के सांसद गजानन कीर्तिकर ने इनकार कर दिया है।

शिंदे गुट को कम से कम 18 सीटें चाहिए
कीर्तिकर का कहना है कि शिवसेना शिंदे गुट को कम से कम 18 सीटें चाहिए। कीर्तिकर ने इस पर नाराज व्यक्त करते हुए बुधवार को एक खबरिया चैनल से बातचीत में कहा कि अब तक इस फार्मूले की अधिकृत घोषणा नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि उन्हें तो यह तक नहीं मालूम कि उनकी पार्टी से में से सीटों के बंटवारे पर कौन सा नेता चर्चा कर रहा है और क्या चर्चा कर रहा है।

12 सीटों का कथित प्रस्ताव मुझे मंजूर नहीं
कीर्तिकर ने कहा कि हमारी पार्टी के मुख्य नेता एकनाथ शिंदे हैं और वह पार्टी की भूमिका तय करते वक्त मुझसे और पार्टी के अन्य नेताओं से इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे यह मेरी अपेक्षा है। लेकिन 12 सीटों का यह कथित प्रस्ताव मुझे मंजूर नहीं है। कीर्तिकर ने कहा कि बीजेपी हमें जितनी सीट देगी चुपचाप उतनी सीट स्वीकार कर लेने जैसी स्थिति हमारी नहीं है। बीजेपी 12 सीट देकर हम पर कोई उपकार कर रही है क्या? हमारी पार्टी और हमारी पार्टी के नेताओं को 18 सीटों की मांग पर अड़े रहना चाहिए।

कोई विश्वासघात नहीं होना चाहिए
कीर्तिकर ने जोर देकर कहा कि एकनाथ शिंदे के साथ जो 13 सांसद आए हैं उन्हें संरक्षण देना एकनाथ शिंदे की जिम्मेदारी है। उनके साथ कोई विश्वासघात नहीं होना चाहिए। जब शिवसेना एकजुट थी तब हमने 23 सीटों पर चुनाव लड़ा था और हमारे 18 सांसद चुनकर आए थे। इनमें से 13 सांसद अब एकनाथ शिंदे के साथ हैं और पांच सांसद उद्धव ठाकरे के साथ हैं।

क्या है कीर्तिकर की नाराजी का राज
बता दें कि गजानन कीर्तिकर मुंबई की जी उत्तर पश्चिम सीट से सांसद हैं उसे सीट से शिवसेना उद्धव ठाकरे गुट उनके बेटे अमल कीर्तिकर को चुनाव में उतरने जा रही है। ऐसे में ऐसे में चर्चा यह है कि शिंदे गुट गजानन कीर्तिकर को टिकट नहीं देगा। सूत्रों का यह भी कहना है कि मुंबई उत्तर पश्चिम लोकसभा सीट पर बीजेपी इस बार अपने किसी उम्मीदवार को लड़ना चाहती है बीजेपी ने तो यहां तक प्रस्ताव रख दिया है कि अगर उनके उम्मीदवार शिवसेना शिंदे गुट के चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ता है तब भी उसे कोई आपत्ति नहीं है। खबर यह भी है कि बीजेपी इस सीट पर किसी आयातित उम्मीदवार को चुनाव लड़ा सकती है।

About bheldn

Check Also

विजयन के टारगेट करने पर कांग्रेस ने साफ किया CAA पर स्टैंड, चिदंबरम ने बताया सरकार बनने पर क्या करेंगे

तिरुवनंतपुरम कांग्रेस की अगुवाई वाली I.N.D.I.A अलायंस अगर सत्ता में आया तो पार्टी सीएए को …