शेखर सुमन ने बेटे अध्ययन संग कंगना रनौत के रिश्ते पर की बात, बोले- दोनों खुश थे

नई दिल्ली,

डायरेक्टर संजय लीला भंसाली की ग्रैंड सीरीज ‘हीरामंडी’ में शेखर सुमन नजर आने वाले हैं. शेखर इस सीरीज में नवाब जुल्फिकार का किरदार निभा रहे हैं. हाल ही में अपने नए इंटरव्यू में शेखर सुमन ने एक्ट्रेस कंगना रनौत को लेकर बात की.एक वक्त था जब कंगना और शेखर के बेटे अध्ययन सुमन रिश्ते में हुआ करते थे. दोनों की मुलाकात डायरेक्टर मोहित सूरी की फिल्म ‘राज: द मिस्ट्री कन्टिन्यूज’ के सेट पर हुई थी. वहीं से दोनों ने एक दूसरे को डेट करना शुरू किया. 2008 में दोनों का रिश्ते शुरू हुआ था और डेटिंग के एक साल बाद कंगना और अध्ययन का ब्रेकअप हो गया. ये ब्रेकअप इतना खराब था कि देशभर को दोनों के बीच की लड़ाई देखने को मिली. शेखर ने कंगना को बेटे के प्रति अब्यूसिव बताया था, तो वहीं अध्ययन का कहना था कि एक्ट्रेस ने उनपर काला जादू किया है.

शेखर ने कही ये बात
अब जूम से बातचीत में शेखर सुमन ने सालों बाद कंगना रनौत और अध्ययन सुमन के रिश्ते को लेकर बात की है. उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि अब दोनों के बीच कोई दुश्मनी और गिले-शिकवे नहीं हैं. शेखर ने कहा, ‘हम सभी जिंदगी में अलग पड़ावों से गुजरते हैं. जो आज सही लग रहा है, वो शायद कल न लगे. कोई भी एक रिश्ता रखना, ब्रेकअप और फिर यूं ही आगे बढ़ जाना नहीं चाहता. हर कपल चाहता है कि उसका रिश्ता परमानेंट हो क्योंकि ये गहरा और पवित्र होता है.’

61 साल के शेखर सुमन ने अध्ययन और कंगना के टूटे रिश्ते का जिम्मेदार किस्मत को बताया. उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि इंसान को अपने पुराने रिश्तों को प्यार भरी नजरों से ही देखना चाहिए. एक्टर ने कहा, ‘भाग्य अलग रोल निभाता है और आपको उसे फॉलो करना होता है. कंगना और अध्ययन जब साथ थे खुश थे. और फिर वो अपने-अपने रास्ते चले गए. ये होना लिखा था तो उनके बीच अब कोई बुरी फीलिंग या दुश्मनी नहीं है. कभी-कभी गरमा-गर्मी में चीजें हो जाती हैं. लेकिन आपको पीछे पलटकर चीजों को प्यार से देखना चाहिए.’

जाने-माने कवि और लिरिसिस्ट रहे साहिर लुधियानवी की बात को भी यहां शेखर सुमन ने दोहराया. उन्होंने कहा, ‘वो अफसाना जिसे अंजाम तक लाना न हो मुमकिन उसे एक खूबसूरत मोड़ देकर छोड़ना अच्छा.’

कंगना रनौत के राजनीति में आने को लेकर भी शेखर सुमन से सवाल किया गया. जवाब में एक्टर ने कहा, ‘हम इसपर अटके हुए नहीं हैं. न मेरा परिवार और न ही अध्ययन. ये उनकी जिंदगी में एक फेज था. हम कौन होते हैं इसपर कमेंट करने वाले और जज करने वाले. हम अपने रास्ते निकल गए हैं और सभी अपनी खुशी और संतोष को पाने के लिए काम कर रहे हैं. पीछे पलटकर देखने और किसी पर उंगली उठाकर बोलने का अब कोई फायदा नहीं है कि ‘ये सही है’ और ‘वो गलत है’.

अध्ययन ने कंगना पर लगाए थे आरोप
साल 2009 में अध्ययन सुमन और कंगना रनौत का ब्रेकअप हुआ था. इसके बाद दोनों के बीच जुबानी जंग छिड़ गई थी. 2017 में अध्ययन सुमन ने कंगना रनौत के खिलाफ इंटरव्यू दिया था. अध्ययन और कंगना के इस पब्लिक ब्रेकअप में एक्टर ने कंगना पर कई बड़े आरोप लगाए. अध्ययन का कहना था कि कंगना रनौत उनके साथ मारपीट करती थीं. इतना ही नहीं, अध्ययन ने कंगना पर काला जादू करने जैसा इल्जाम भी लगाया था. वहीं कंगना ने आपकी अदालत शो में मारपीट के इल्जाम पर अपना रिएक्शन देते हुए कहा था कि ‘अध्ययन 95 किलो के हैं और मैं 49 किलो की. मैं उन्हें कैसे मार सकती थी. लेकिन अब जब मैं उस बारे में सोचती हूं, लगता है हाथ उठा ही देना चाहिए थे.’

शेखर सुमन ने भी तब बेटे अध्ययन सुमन का साथ दिया था. वो सोशल मीडिया पर कंगना रनौत के विरोध में पोस्ट लिखते थे. उन्होंने फिल्म ‘सिमरन’ के फ्लॉप होने पर कंगना का मजाक भी उड़ाया था. शेखर ने लिखा था, ‘इतना हंगामा, इतना शोर शराबा, नतीजा? खोदा पहाड़..निकली चुहिया.’ वहीं साल 2023 में अपने 2017 के धमाकेदार इंटरव्यू को लेकर बात करते हुए अध्ययन ने कहा था कि उन्होंने कंगना रनौत के खिलाफ बातें पब्लिसिटी के लिए नहीं कही थी, बल्कि अपनी साइड की स्टोरी दुनिया की नजरों में रखने के लिए कही थीं.

About bheldn

Check Also

पुणे पोर्शे कार एक्सीडेंट केस में नाबालिग आरोपी वेदांत अग्रवाल की जमानत रद्द, जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड का बड़ा फैसला

मुंबई, जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने पुणे के कल्याणीनगर दुर्घटना मामले में किशोर आरोपी की जमानत …