गोड्डा से दीपिका की जगह अब प्रदीप लड़ेंगे चुनाव, रांची से सुबोधकांत सहाय की बेटी यशस्विनी होंगी कांग्रेस उम्मीदवार

रांची

झारखंड में गोड्डा लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार दीपिका पांडेय सिंह का टिकट कट गया है। महगामा की कांग्रेस विधायक दीपिका पांडेय सिंह की जगह अब पार्टी की ओर से पोड़ैयाहाट के विधायक प्रदीप यादव को उम्मीदवार बनाने का ऐलान किया गया है। वहीं रांची लोकसभा सीट से पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय की जगह उनकी बेटी यशस्विनी सहाय को उम्मीदवार बनाया गया है। कांग्रेस की ओर से रविवार को 11 उम्मीदवारों के नाम लिस्ट जारी की गई, इसमें झारखंड के भी इन दोनों सीटों के लिए प्रत्याशियों के नाम का ऐलान किया गया।

निशिकांत दुबे को अब दीपिका की जगह प्रदीप यादव देंगे टक्कर
कांग्रेस की ओर से विधायक दीपिका पांडेय सिंह को पिछले सप्ताह गोड्डा लोकसभा सीट से उम्मीदवार बनाए जाने का फैसला किया गया था। लेकिन उन्हें उम्मीदवार बनाए जाने के खिलाफ गोड्डा और दुमका में कुछ कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन भी किया था। इस बीच राहुल गांधी भी शनिवार को भागलपुर दौरे के क्रम में देवघर आए थे, जहां प्रदीप यादव और अन्य नेताओं ने उनसे बातचीत की थी। हालांकि इस दौरान विधायक दीपिका पांडेय सिंह और इरफान अंसारी भी मौजूद थे। माना जा रहा है कि गोड्डा के बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे को घेरने के लिए नए सिरे से रणनीति तैयार की गई है, उसी के तहत उम्मीदवार बदलने का फैसला किया गया।

रांची से सुबोधकांत की बेटी यशस्विनी सहाय
दूसरी तरफ रांची लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार का इंतजार खत्म हुआ। कांग्रेस ने पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय की बेटी को टिकट दिया है। प्रारंभ में सुबोधकांत सहाय की टिकट की रेस में आगे चल रहे थे, लेकिन बीच उनकी उम्र और हेल्थ को लेकर पार्टी के ही कुछ नेताओं ने सवाल उठाए, जिसके बाद राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता को उम्मीदवार बनाए जाने की चर्चा शुरू हुई। परंतु पांच दशक तक एक्टिव पॉलिटिक्स में रहे सुबोधकांत सहाय ने अपनी जगह बेटी यशस्विनी के नाम को आगे बढ़ा दिया। उनकी ओर से तर्क दिया गया कि कांग्रेस पार्टी की ओर से अब तक एक भी कायस्थ जाति के उम्मीदवार को टिकट नहीं दिया गया है। इसे ध्यान में रखते हुए कांग्रेस आलाकमान ने उनकी बेटी को उम्मीदवार बनाए जाने का फैसला ले लिया।

पूर्व बीजेपी सांसद रामटहल चौधरी को भी मिलेगा सम्मान
इधर, रांची से बीजेपी उम्मीदवार के रूप में पांच पर लोकसभा चुनाव जीत चुके रामटहल चौधरी ने भी टिकट की आस में ही कांग्रेस की सदस्यता ली थी। लेकिन पार्टी नेताओं का कहना है कि उन्हें पहले ही बता दिया गया था कि इस बार उन्हें लोकसभा चुनाव का टिकट नहीं मिलेगा, लेकिन उन्हें पार्टी में मान-सम्मान मिलेगा। साथ ही चुनाव के बाद उन्हें सरकार-संगठन में एडजस्ट करने का भरोसा दिलाया गया है।

About bheldn

Check Also

मुगलों के ताजमहल से लड़ने को तैयार है आगरा की ये सफेद इमारत, 104 साल में हुई तैयार, अब यहां का भी लगेगा टिकट

आगरा का नाम आते ही, जहन में सबसे पहला नाम ताजमहल का आता है, और …