कानपुर में बकाया पैसे मांगने पर ठेकेदार को जिंदा जलाया, मरने से पहले दिया बयान- बिल्डर पर आरोप

कानपुर

कानपुर में हत्या का एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। यहां चकेरी इलाके में शैलेंद्र श्रीवास्तव नाम के एक बिल्डर पर ठेकेदार राजेंद्र पाल को पेट्रोल डालकर जिंदा जला देने का बेहद संगीन आरोप लगा है। घटना में ठेकेदार राजेंद्र की मौत हो गई। घटना की जानकारी होते ही पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। हालांकि पुलिस ने आरोपी बिल्डर को गिरफ्तार कर लिया है।

क्या है पूरा मामला
बताया गया कि कानपुर के चकेरी इलाके में बुधवार को शैलेंद्र श्रीवास्तव के यहां काम करने वाले ठेकेदार राजेंद्र पाल ने 18 लाख रुपए का अपना बकाया पेमेंट मांगा था। इससे बिल्डर इतना नाराज हो गया कि उसने ठेकेदार पर पेट्रोल डालकर उसे आग के हवाले कर दिया। बाद में ठेकेदार की अस्पताल में मौत हो गई।

मृतक के बेटे अरविंद ने बताया कि उसके पिता राजेंद्र पाल शटरिंग का काम करते थे, बिल्डर श्याम श्रीवास्तव पर 18 लाख रुपए बकाया था। बेटे ने बताया कि जब भी पिता बकाया रुपयों की बात करता तो बिल्डर धमकी देने लगता था। बेटे ने बताया कि इसकी शिकायत उसके पिता ने पुलिस से भी की थी। अरविंद ने बताया कि इस मामले की जानकारी उसके पिता ने डीसीपी को लिखित एप्लीकेशन लिखकर भी दी थी लेकिन पुलिस ने बिल्डर के दबाव में कोई कार्रवाई नहीं की। मृतक ठेकेदार के बेट अरविंद ने बताया कि बकाया रुपयों को लेकर उसके पिता पिछले एक साल से अधिकारियों के चक्कर लगा रहे थे पर किसी ने कोई कार्रवाई नहीं की।

मृतक के बेटे अरविंदने बताया कि आज बिल्डर ने उसके पिता राजेंद्र को अपने ऑफिस बुलाकर पहले पीटा और बाद में पेट्रोल डालकर उन्हें जिंदा जला दिया। अरविंद खुद आर्मी में सर्विस करता है, अरविंद का कहना है कि पिता के साथ पुलिस की ऐसी लापरवाही ने उसे अंदर तक झकझोर कर रख दिया है।

मामले पर एसीपी मृगांक शेखर ने कहा कि बिल्डर ने पैसा मांगने पर ठेकेदार को जिंदा जला दिया जिससे उसकी मौत हो गई। एसीपी मृगांक ने कहा कि पुलिस मामले में एफआईआर दर्ज कर आगे की कार्रवाई कर रही है। उन्होंने कहा इसके अलावा हम इस मामले में पुलिस की ढिलाई की जो बात कही जा रही है उसकी भी जांच कर रहे हैं।

About bheldn

Check Also

152 दिन, 143 सुइसाइड, यवतमाल को पीछे छोड़ महाराष्ट्र में किसान आत्महत्या की राजधानी बना अमरावती

नागपुर किसानों की आत्महत्या मामले में महाराष्ट्र टॉप पर रहता है। पिछले कुछ वर्षों में …