ब्रिटेन पर नहीं थमेगी ‘आग की बारिश’, रिसर्च में खुलासा- 2050 तक 40 डिग्री तापमान हो जाएगा नॉर्मल

लंदन

पूरे यूरोप में इस साल भीषण गर्मी देखने को मिल रही है। ये सप्ताह ब्रिटेन के सबसे गर्म दिनों में से एक रहा है। शोधकर्ताओं ने अब बड़ी चेतावनी देते हुए कहा है कि 40 डिग्री सेल्सियस तापमान सामन्य हो जाएंगे। एक नए अध्ययन से पता चला है कि जीवाश्म ईंधन और अन्य मानवीय गतिविधियों के कारण हीटवेव में 30 फीसदी से ज्यादा की वृद्धि आने वाले कुछ वर्षों में देखने को मिलेगी।

मंगलवार को ब्रिटेन में अब तक का सबसे गर्म दिन रहा। इस दौरान तापमान 40.3 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। इस स्टडी के मुताबिक 2050 तक इस तरह का तापमान सामान्य हो जाएगा। नई स्टडी में वायुमंडलीय सर्कुलेशन पैटर्न और ग्रीन हाउस गैसों के पिछले साल के डेटा का विश्लेषण किया गया। साउथ चाइना सी इंस्टीट्यूट ऑफ ओशनोलॉजी से स्टडी के सह लेखक डॉ चुनजाई वांग ने कहा कि, ‘2021 के जून के अंत में पश्चिमी उत्तरी अमेरिका में असाधारण हीटवेव देखी गई थी। इसके कारण सैकड़ों लोगों की मौत हुई। जंगलों में भयंकर आग और समुद्री जीवों की मौत हुई।’

ग्रीन हाउस गैस बढ़ती गर्मी का कारण
उन्होंने आगे कहा, ‘इस स्टडी में हमने वायुमंडलीय सर्कुलेशन पैटर्न और ग्रीन हाउस गैसों का अध्ययन किया। कंप्यूटर सिमुलेशन से पता चला है कि ग्रीन हाउस गैस बढ़ते गर्मी का कारण हैं, जो भविष्य में बढ़ता ही रहेगा।’ वायुमंडलीय सर्कुलेशन पैटर्न ये बताते हैं कि हवा कैसे बहती है और पृथ्वी के चारों ओर तापमान को कैसे प्रभावित करते हैं। ये सूर्य की गर्मी, आंतरिक वायुमंडलीय प्रक्रियाओं और पृथ्वी के घूमने के आधार पर बदल सकते हैं।

हीटवेव से लग रही आग
जलवायु परिवर्तन को नियंत्रित करने के लिए 2015 में पेरिस एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर किया गया था। इससे वैश्विक औसत तापमान में वृद्धि को 2 डिग्री सेल्सियस से नीचे रखने और तापमान में वृद्धि को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने की उम्मीद है। हीटवेव के कारण यूरोप में आग के मामले देखे गए हैं। कई देशों के जंगलों में आग लगी है, जिसके कारण हजारों लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा है।

About bheldn

Check Also

अमेरिका के सुपरमार्केट में फायरिंग, भारतीय छात्र की हत्या, थम नहीं रहा मौत का सिलसिला

नई दिल्ली, आंध्र प्रदेश के बापटला जिले के रहने वाले 32 वर्षीय एक छात्र दासारी …