BAR पर अब लीगल वार, स्मृति ईरानी ने कांग्रेस, जयराम रमेश, पवन खेड़ा को भेजा नोटिस

नई दिल्ली,

गोवा के ‘सिली सोल्स कैफे एंड बार’ को लेकर छिड़े विवाद में केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अब कांग्रेस पर पलटवार किया है. कांग्रेस के उनकी बेटी जोइश ईरानी पर आरोप लगाने के लिए उन्होंने कानूनी नोटिस भेजा है. स्मृति ईरानी की ओर से उनके वकील ने कांग्रेस पार्टी, कांग्रेस के नेता जयराम रमेश, पवन खेड़ा और नेटा डिसूजा को नोटिस भेजा है. कांग्रेस का आरोप है कि केन्द्रीय मंत्री का परिवार गोवा का ये बार चलाता है और शराब का लाइसेंस लेने के लिए इस बार ने फर्जीवाड़ा किया है.

दरअसल ये पूरा प्रकरण तब सामने आया जब गोवा के आबकारी आयुक्त ने ‘सिली सोल्स कैफे एंड बार’ को नियमों और प्रक्रियाओं को धता बताकर शराब लाइसेंस लेने के मामले में एक कारण बताओ नोटिस जारी किया. इस मामले में शिकायतकर्ता की शिकायत में आरोप लगाया गया कि बार को शराब का लाइसेंस तब भी जारी किया गया, जब इसके पास रेस्टोरेंट का कोई लाइसेंस नहीं है. वहीं जून में शराब के लाइसेंस का नवीनीकरण ऐसे व्यक्ति के नाम पर किया गया जिसकी मौत मई में ही हो गई थी.

24 घंटे के अंदर माफी मांगे कांग्रेस, नेता
स्मृति ईरानी ने कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष के नाम से पार्टी और उसके प्रवक्ता पवन खेड़ा और जयराम रमेश को नोटिस भेजा है. साथ-साथ कांग्रेस महिला मोर्चा की अध्यक्ष नेटा डिसूजा का नाम भी नोटिस में है. स्मृति ईरानी ने इस मामले में कांग्रेस और उसके नेताओं से 24 घंटे के भीतर बिना शर्त माफी मांगने की मांग की है. साथ ही इसका सोशल मीडिया और प्रिंट मीडिया में व्यापक प्रसार करने को कहा है. साथ ही सभी आरोपों को तत्काल प्रभाव से बिना शर्त वापस लेने और भ्रामक जानकारी फैलाने वाले सभी वीडियो और पोस्ट को सोशल मीडिया से हटाने के लिए भी कहा है.

स्मृति ईरानी की ओर से भेजे गए नोटिस में ऐसी भ्रामक जानकारियों या इससे जुड़ी किसी भी कंटेंट को फैलाने से रोकने और उन्हें स्थायी तौर पर डिलीट करने के साथ-साथ फ्यूचर में फिर से प्रसारित नहीं करने के लिए भी कहा है. अगर नोटिस पाने वाले लोग ऐसा करने में असफल रहते हैं तो स्मृति ईरानी उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगी.

कल किया था कानूनी नोटिस भेजने का ऐलान
कांग्रेस ने प्रेस कान्फ्रेंस कर इस पूरे मामले पर स्मृति ईरानी की सफाई मांगी थी. शनिवार शाम में केन्द्रीय मंत्री ने इन आरोपों का जवाब दिया था. उन्होंने कहा-मेरी बेटी कॉलेज की स्टूडेंट है और वो कोई बार नहीं चलाती है. कांग्रेस ने एक 18 साल की लड़की की इज्जत की धज्जियां उड़ाने का दुस्साहस किया है. उस लड़की का दोष यह है कि उस लड़की की मां ने 2014 और 2019 में अमेठी से राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ा. इसी के साथ उन्होंने कांग्रेस के नेताओं को कानूनी नोटिस भेजने का ऐलान भी किया था.

कानूनी नोटिस में कांग्रेस की इन बातों पर आपत्ति
स्मृति ईरानी के वकील ने कानूनी नोटिस में कहा है- कांग्रेस पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि वो हमारी क्लाइंट (स्मृति ईरानी) और उनके परिवार के लोगों को लक्ष्य नहीं बनाना चाहती, लेकिन हमारी क्लाइंट और उनके परिवार को करप्शन के आरोपों का जवाब देना चाहिए. कांग्रेस का आरोप है कि उनकी 18 साल की बेटी जोइश ईरानी गोवा में ‘सिली सोल्स कैफे एंड बार’ नाम से रेस्त्रां चलाती हैं. वहीं उनकी बेटी जोइश ईरानी को गोवा के आबकारी विभाग ने कारण बताओ नोटिस भेजा है.

नोटिस में YouTube पर ‘स्मृति ईरानी चुप्पी तोड़ो’ और ‘स्मृति ईरानी के पारिवारिक भ्रष्टाचार की गाथा’ टाइटल से प्रसारित वीडियो और Instagram पर शेयर किए गए ‘हम अखबार भी चलाएं तो हो जाते हैं बदनाम’ वीडियो के माध्यम से गलत और भ्रामक जानकारी, मानहानि, अपमानजनक टिप्पणी करने की बात कही गई है. साथ ही अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर इसे लेकर किए गए पोस्ट का जिक्र भी कानूनी नोटिस में है.

About bheldn

Check Also

NDA कल करेगा लोकसभा स्पीकर पद के उम्मीदवार का ऐलान, 26 जून को होना है चुनाव

नई दिल्ली, संसद के निचले सदन लोकसभा  के नए अध्यक्ष की नियुक्ति को लेकर सियासी …