बीजेपी ने सोनिया को घेरा तो समर्थन में उतर आई विपक्षी दलों की महिला ब्रिगेड

नई दिल्ली,

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पर कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी की आपत्तिजनक टिप्पणी पर सियासी तूफान खड़ा हो गया है. गुरुवार को सदन में बीजेपी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को जमकर घेरा. केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और सोनिया गांधी के बीच को नोकझोंक तक हो गई. इसके बाद दोनों पक्षों से अलग-अलग तरह के बयान आए. तो वहीं सोनिया गांधी के समर्थन में खड़े होते हुए गैर-कांग्रेसी विपक्षी दलों की महिला सांसदों ने बीजेपी को निशाने पर लिया.

लोकसभा में हुए बवाल के बाद पूरी महिला ब्रिगेड ने एक सुर में बीजेपी पर निशाना साधा है और सोनिया का खुलकर समर्थन किया है. जो विवाद अधीर रंजन चौधरी के एक बयान से शुरू हुआ था, उसकी आंच सोनिया तक आई. बाद में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के साथ भी उनकी जो कहासुनी हुई, वो चर्चा का विषय रही.

जानकारी के लिए बता दें कि जब सदन की कार्यवाही स्थगित हुई तो बीजेपी नेताओं ने सोनिया के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी थी. विवाद इतना बढ़ गया कि सोनिया को स्मृति से कहना पड़ गया- don’t talk to me. इसके बाद दो से तीन मिनट तक दोनों नेताओं के बीच कहासुनी चलती रही और पूरे विवाद के एक नहीं कई वर्जन सामने आए. लेकिन इन पहलुओं के अलावा एक बड़ा सियासी संदेश भी स्पष्ट दिख गया. पूरा विपक्ष सोनिया गांधी के समर्थन में खड़ा हो गया.

एनसीपी की सुप्रिया सुले कहती हैं कि मिस गांधी के खिलाफ जिस तरह से नारेबाजी की जा रही थी, हम सभी हैरान रह गए. सदन की गरिमा बनी रहे, इसकी जिम्मेदारी हम सभी को लेनी पड़ेगी.

टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा ने भी सोनिया का समर्थन करते हुए कह दिया कि एक 75 साल की महिला को घेरा गया. वो सिर्फ एक दूसरी वरिष्ठ महिला से बात करने के लिए गई थीं. मोइत्रा ने इस बात पर भी नाराजगी जाहिर की कि लोकसभा में सारे नियम सिर्फ विपक्ष के लिए हैं. जैसे ही सदन की कार्यवाही शुरू हुई, बीजेपी ने माइक को हाईजैक कर लिया.

शिवसेना सांसद ने भी दिया साथ
वैसे इस बार सोनिया गांधी को शिवसेना का भी समर्थन मिला. प्रियंका चतुर्वेदी ने सोनिया गांधी के साथ किए गए व्यवहार को ‘बुली बिहेवियर’ बता दिया. स्मृति ईरानी पर निशाना साधते हुए प्रियंका ने कहा कि इस गुंडागर्दी का प्रतिनिधित्व वो मंत्री कर रही थीं जो खुद गोवा में अवैध कारोबार के आरोपों से घिरी हैं, जिनके पास शिक्षा के फर्जी दस्तावेज हैं.

अभी इस समय पूरे विवाद को लेकर बीजेपी और कांग्रेस में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है. एक तरफ बीजेपी द्रौपदी मुर्मू के अपमान मुद्दा बना रही है तो कांग्रेस भी सोनिया के अपमान को मुद्दा बना रही है. इसी कड़ी में अधीर रंजन चौधरी समेत 18 सांसद लोकसभा स्पीकर से मिलकर इस मामले की शिकायत करने वाले हैं. उन सांसदों के निलंबन की मांग होगी जिन्होंने सोनिया गांधी के खिलाफ नारेबाजी की. उनकी तरफ से सीसीटीवी फुटेज देने की मांग भी होगी.

About bheldn

Check Also

NEET-NET पेपर लीक मामले में केंद्र का बड़ा एक्शन, NTA के महानिदेशक सुबोध कुमार सिंह को हटाया

नई दिल्ली, नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) के महानिदेशक (DG) सुबोध कुमार को पद से हटा …