भेल की थ्रिफ्ट सोसायटी के चुनाव जल्द,बनेंगे नये समीकरण

भोपाल

लंबे समय से लंबित बीएचईई थ्रिफ्ट एण्ड क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी के चुनाव जल्द होंगे । इस चुनाव में नये समीकरण बनने की उम्मीद की जा रही है । यह चुनाव अगस्त के दूसरे सप्ताह में हो सकते हैं । दरअसल संचालक मंडल की लापरवाही के चलते चुनाव नहीं हो सके थे फिर भी संचालक मंडल काम करता रहा । इसी बीच प्रतिनिधि यूनियन के चुनाव आ जाने से इस चुनाव तारीख तय नहीं हो पाई ।

खबर है कि जिन पैनल में चुनाव लडऩे का मन बनाया था उनमें से कुछ प्रतिनिधि यूनियन का चुनाव हार गई हैं वहीं एचएमएस एवं सीटू यूनियन द्वारा चुनाव जीतने के बाद हार-जीत के नये समीकरण बनना तय है । पारदर्शी और परिवर्तन पैनल में भी काफी परिवर्तन होंगे । इनमें से कई उम्मीदवार को बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है ।

एक पारदर्शी पैनल में शामिल यूनियन के दो महामंत्री में से एक महामंत्री को पैनल में लेगें या नहीं यह भी तय होना बाकी है क्योंकि एक यूनियन के एक महामंत्री ने अपनी यूनियन में पहली बार महामंत्री बनने के बाद लुटिया डुबो दी इसका फायदा पारदर्शी पैनल को मिल पाता है या नहीं यह भी देखना है । बीएमएस यूनियन से जुड़े नेता इस बात पर गंभीरता से विचार कर रहे हैं वैसे भी थ्रिफ्ट के पांच साल के कार्यकाल के पहले रिटायर होने वाले नेताओं को मतदाता बाहर का रास्ता दिखायेंगे इसको लेकर इस बार पारदर्शी पैनल गंभीर है दूसरी और दूसरी एक और पारदर्शी पैनल में शामिल कुछ उम्मीदवार भले ही नगर प्रशासन विभाग में अपने पद पर रह कर अपनों को फायदा तो अपने प्रतिद्ववंदी को नुकसान पहुंचाने का काम जोर शोरों से कर रहे तो प्रबंधन आंख-कान बंद कर बैठी है ।

यहां यह बता देना भी जरूरी है कि सिर्फ गलत फहमियों के चलते नगर प्रशासन विभाग के एक अपर महाप्रबंधक कारखाने में भेज दिया फिर थ्रिफ्ट में पारदर्शी पैनल बनाकर चुनाव लड़ रहे एक अफसर को नगर प्रशासन ने बड़ी जिम्मेदारी का काम सौंप कर प्रबंधन ने चुनाव की निष्पक्षता पर सवालिया निशान लगा दिया है । मामला जो भी हो लेकिन भेल प्रबंधन को गालियां बकने वाले मजे में हैं और सही आदमी परेशान है । प्रबंधन को जल्द ही फैसला लेना होगा की अगस्त माह में होने वाले थ्रिफ्ट चुनाव में प्रतिनिधि यूनियन की तरह निष्पक्षता बनाये रखने के लिये सही फैसला लें ।

About bheldn

Check Also

बीएचईएल की पौन करोड़ की मिठाई चर्चा में

भोपाल बिना टेंडर के काम न करने का दावा करने वाली बीएचईएल जैसी महारत्न कंपनी …