जनसभाओं में पीएम मोदी और रोड शो में केजरीवाल ने मारी बाजी, राहुल पीछे छूटे

अहमदाबाद

गुजरात में 15वीं विधानसभा चुनाओं के नतीजों पर पूरे देश की और दुनिया की नजरें लगी हैं। इसकी एकमात्र वजह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद हैं, क्योंकि गुजरात उनका गृह राज्य है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज बनासकांठा के कांकरेज, पाटण, आणंद जिले के सोजित्रा और फिर अहमदाबाद के सरसपुर में जनसभा को संबोधित करेंगे। इसी के साथ प्रधानमंत्री की कुल सभाओं की संख्या 30 के करीब पहुंच जाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनावी अभियान की शुरूआत वलसाड से की थी। तो वहीं समापन आज अहमदाबाद में करेंगे। पीएम मोदी इस बार के चुनावों में सभाओं को लेकर नंबर एक पर खड़े हैं तो वहीं वहीं रोड शो की रेस अरविंद केजरीवाल ने जीती है। उन्होंने आप के ज्याद दर्जनभर से अधिकर रोड शो किए। 2017 के चुनावों पीएम मोदी ने प्रचंड प्रचार किया था तो वहीं कांग्रेस से राहुल गांधी मोर्चा संभाला था लेकिन इस बार उनकी सिर्फ दो सभाएं हुई। इसके उलट अरविंद केजरीवाल पूरे चुनावों में सक्रिय रहे। दूसरे चरण के लिए पांच दिसंबर को वोट डाले जाएंगे। इसके लिए तीन दिसंबर की शाम पांच बजे से प्रचार बंद हो जाएगा।

पीएम मोदी रहे पहले नंबर पर
‘यह गुजारत हमने बनाया है’… थीम के साथ इन चुनाव प्रचार में पीएम मोदी ने सर्वाधिक रैलियां की। इसके बाद गृह मंत्री अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ सबसे डिमांड में रहे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात दो दर्जन से अधिक सभाएं की और तीन बड़े रोड शो किए। इसमें अहमदाबाद का विराट रोड शो भी शामिल रहा। पीएम मोदी के अलावा सबसे ज्यादा सक्रिय अमित शाह रहे। उन्होंने तमाम सभाएं की और रोड शो भी किए। तो वहीं दूसरी कांग्रेस की ओर से राहुल गांधी  ने सिर्फ दो सभाएं कीं। पहली सभा महुआ और दूसरी राजकोट में की। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने एक दो जनसभाओं को संबोधित किया।

केजरीवाल दर्जनभर रोड शो किए
बीजेपी और कांग्रेस के मुकाबले आम आदमी पार्टी की ओर से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवालने 20 कार्यक्रम किए इसमें 15 रोड शो 5 सभाएं शामिल रहीं। केजरीवाल के साथ चुनाव प्रचार में पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान लगातार मौजूद रहे। तो वहीं 1 दिसंबर को उन्होंने जब अहमदाबाद में चुनाव प्रचार किया तो हरभजन सिंह भी मौजूदगी रही। आप ने मजबूत सीटों पर फोकस किया और लगातार वहां पर प्रचार किया।

कांग्रेस पर केंद्रित रहा भाषण
गुजरात चुनावों में पीएम मोदी का भाषण कांग्रेस पर प्रहार पर केंद्रित रहा। इसमें नर्मदा योजना, आतंकवाद, तुष्टीकरण के साथ-साथ केंद्र व राज्य सरकार की योजनाएं, डबल इंजन सरकार जैसे मुद्दे शामिल रहे। आखिरी के चरण में पीएम मोदी ने कांग्रेस नेताओं के अपशब्दों को मुद्दा बनाया और जमकर निशाना साधा। तो वहीं कांग्रेस की तरफ से महंगाई, बेरोजगारी, मोरबी ब्रिज हादसा, कोरोना महामारी, मुख्यमंत्री व पूरी कैबिनेट को बदलने के मुद्दे को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा। राहुल गांधी के 8 वचन के साथ पार्टी जनता के बीच गई। आम आदमी पार्टी ने फ्री बिजली, मुफ्त शिक्षा, रोजगार सहित कई गारंटी योजनाओं को जनता के समक्ष बार-बार रखा और एक मौका मांगा।

About bheldn

Check Also

पुणे सड़क हादसे का नया CCTV आया सामने, नशे में नाबालिग ने ली दो इंजीनियरों की जान

पुणे, महाराष्ट्र के पुणे सड़क हादसे का वीडियो सामने आया है. जिसमें दिख रहा है …