हिमाचल में वीरभद्र फैमिली को किया इग्नोर, कांग्रेस आलाकमान की परिवारवाद पर पहली चोट तो नहीं?

नई दिल्‍ली

सुखविंदर सिंह ‘सुक्‍खू’ हिमाचल प्रदेश के अगले मुख्‍यमंत्री होंगे। कांग्रेस आलाकमान ने शनिवार को ‘सुक्खू’ को कांग्रेस विधायक दल का नेता चुना। मुकेश अग्निहोत्री को उपमुख्यमंत्री चुना गया है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसका ऐलान किया। सुक्‍खू को सीएम बनाने का फैसला कई मायनों में बेहद अहम है। इसके जरिये पार्टी ने शायद सख्‍त संदेश देने की कोशिश की है। उसने वीरभद्र सिंह की विरासत को इग्‍नोर कियाहै। पिछले साल 8 जुलाई को वीरभद्र का निधन हो गया था। वह छह बार इस पहाड़ी राज्‍य के सीएम रहे। उनके निधन के बाद अक्‍टूबर 2021 में उपचुनाव हुए थे। इसमें उनकी पत्‍नी प्रतिभा सिंह ने मंडी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था। इस चुनाव में उन्‍होंने शानदार जीत दर्ज की थी।

हिमाचल प्रदेश चुनाव में कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) को उखाड़ फेंकने के दावा किया था। लेकिन, मुख्‍यमंत्री के चेहरे पर सस्‍पेंस कायम था। प्रतिभा सिंह की जीत के बाद उन्‍हें हिमाचल में कांग्रेस की कमान सौंपी गई थी। वह हिमाचल प्रदेश कांग्रेस की अध्‍यक्ष हैं। लेकिन, इसके बाद अंदरखाने टकराव बढ़ा था। इस कदम से कई वरिष्‍ठ नेता खुश नहीं थे। सुक्‍खू को सीएम बनाकर कांग्रेस ने साफ कर दिया है कि वह पुरानी परिपाट‍ि को आगे नहीं बढ़ाएगी। उसने यह भी मैसेज देने की कोशिश की है कि शीर्ष स्‍तर से लेकर निचले स्‍तर पर परिवारवाद को खत्‍म किया जाएगा।

वीरभद्र सिंह का नाम हिमाचल की जनता की जुबान पर आज भी चढ़ रहता है। उन्‍हें भुला पाना आसान नहीं है। उनकी पत्‍नी प्रतिभा सिंह और बेटे विक्रमादित्‍य सिंह प्रदेश की राजनीति में सक्र‍िय हैं। उनका परिवार हिमाचल की राजनीति में अलग स्‍थान रखता है। यही कारण है कि जब छह बार मुख्‍यमंत्री रहे वीरभद्र का निधन हुआ तो जनता ने उनकी पत्‍नी को झोली भर-भरकर वोट दिए। उसके बाद कांग्रेस आलाकमान ने भी उन पर भरोसा जताकर पार्टी की बागडोर प्रतिभा के हाथों में सौंपी। हालांकि, इससे कई वरिष्‍ठ नेता नाखुश थे। गनीमत सिर्फ इतनी रही कि यह नाखुशी पंजाब या राजस्‍थान की तरह बाहर नहीं आई। कांग्रेस महंगाई और बेरोजगारी जैसे बुनियादी मुद्दों को लेकर चुनाव मैदान में उतरी। मुख्‍यमंत्री का चेहरा कोई नहीं था। कांग्रेस शुरू से दावा करती रही कि वह बीजेपी को सत्‍ता से बाहर कर देगी। वह इसमें सफल भी हुई।

कांग्रेस बीते कुछ समय से काफी उथल-पुथल का सामना कर रही है। ऐसे में वह अपनी छवि को लगातार बदलने की भी कोशिश में जुटी हुई है। इसी के तहत हाल में कांग्रेस अध्‍यक्ष का चुनाव हुआ। इसमें पार्टी की बागडोर मल्लिकार्जुन खरगे को दी गई। गांधी परिवार ने खुद को पीछे कर लिया। हिमाचल में जीत उसके लिए राहत की सांस लेकर आई। सुक्‍खू को सीएम बनाकर उसके पास यह मैसेज देने का मौका था कि पार्टी परिवारवाद की राजनीति को आगे नहीं बढ़ाएगी। दरअसल, इस मुद्दे को लेकर बीजेपी उस पर लगातार हमलावर रही है। ऐसे में कांग्रेस ने वीरभद्र सिंह की विरासत को साफ तौर पर इग्‍नोर किया। उसने यह दिखाने की कोशिश की कि कांग्रेस अब इन चीजों से ऊपर उठने वाली है। जो चीज केंद्रीय नेतृत्‍व पर लागू होती है, उसे नीचे भी अमल में लाया जाएगा।

About bheldn

Check Also

डॉक्टर ने नाम बदलकर रचाई शादी, फिर महिला का जबरन कराया धर्म परिवर्तन

सहारनपुर , सहारनपुर के थाना देवबंद पुलिस ने एक डॉक्टर को नाम बदल कर दूसरे …