PM मोदी को लेकर बिलावल की टिप्पणी पर अमेरिका ने दिया ऐसा जवाब!

नई दिल्ली,

पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो की भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अभद्र टिप्पणी पर अब अमेरिका ने भी प्रतिक्रिया दी है. अमेरिका ने कहा है कि दोनों देशों के साथ हमारी अच्छी साझेदारी है और हम नहीं चाहते हैं कि दोनों देशों के बीच इस तरह से वाकयुद्ध हो. पाकिस्तानी विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो ने सारी हदें पार करते हुए पीएम मोदी पर निजी हमला करते हुए उन्हें ‘गुजरात का कसाई’ कहा था. बिलावल भुट्टो के इस बयान पर भारत के विदेश मंत्रालय ने कड़ी आपत्ति जताई थी और कहा था कि पाकिस्तान किसी भी हद तक गिर सकता है.

अब इस पूरे मामले पर अमेरिका का रिएक्शन आया है. अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस से सोमवार को रूटीन प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पाकिस्तान के मंत्री की पीएम मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी पर भारत की नाराजगी को लेकर सवाल किया गया. नेड प्राइस ने इस पर कहा, भारत के साथ जहां हमारी वैश्विक रणनीतिक साझेदारी है. वहीं पाकिस्तान के साथ भी हम अच्छी साझेदारी रखते हैं. लेकिन हम दोनों देशों के साथ संबंध को एक-दूसरे से जोड़ कर नहीं देखते हैं.नेड प्राइस ने कहा कि अमेरिका के साझा लक्ष्यों को हासिल करने के लिए भारत और पाकिस्तान दोनों के साथ अमेरिका के रिश्तों का अच्छा होना जरूरी है.

अमेरिकी प्रवक्ता ने कहा कि सच्चाई यह है कि दोनों देशों के साथ हमारी अच्छी साझेदारी है इसलिए हम भारत और पाकिस्तान के बीच वाक युद्ध नहीं देखना चाहते हैं. नेड प्राइस ने कहा कि हम चाहते हैं कि दोनों देशों के बीच एक रचनात्मक बातचीत हो और हमें लगता है कि यही पाकिस्तान और भारत के लोगों के लिए बेहतर है. उन्होंने कहा कि ऐसे बहुत से काम हैं जो हम द्विपक्षीय रूप से एक साथ कर सकते हैं.

पीएम मोदी ने मुझे सही साबित कर दिया, अब क्यों बोले बिलावल भुट्टो
अमेरिकी प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा कि दोनों देशों के बीच निश्चित रूप से ऐसे मतभेद हैं जिन्हें हल करने की आवश्यकता है. नेड प्राइस ने कहा कि अमेरिका एक पार्टनर के रूप में दोनों देशों की मदद करने के लिए तैयार है.

भारत-रूस संबंध पर भी की टिप्पणी 
अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने एक अन्य सवाल का जवाब देते हुए कहा कि भारत के प्रधानमंत्री की ओर से रूस को दी गई सलाह ‘यह युग युद्ध का नहीं’ का दुनिया भर के देशों ने स्वागत किया है.

प्राइस ने आगे कहा कि भारत का रूस के साथ जैसा रिश्ता है, वह अमेरिका के साथ नहीं है. अमेरिकी प्रवक्ता ने कहा कि कई दशकों से रूस भारत के लिए एक अच्छे सहयोगी की भूमिका में था जबकि अमेरिका के मामले में ऐसा नहीं था. हालांकि, पिछले कुछ दशकों में दोनों देशों (भारत और अमेरिका) के रिश्तों में बदलाव आए हैं. उन्होंने कहा कि पिछली कुछ सरकारों में खासकर जॉर्ज डब्ल्यू बुश के कार्यकाल से भारत को तवज्जो दी जाने लगी है.

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने आगे कहा कि ऐसे कई जरूरी काम हैं जो दोनों देश साथ कर सकते हैं. नेड प्राइस ने कहा, हम केवल अपने-अपने देशों के लिए ही नहीं बल्कि दुनिया भर में कई काम कर सकते हैं और हमें लगता है कि भारत की अध्यक्षता में होने वाली जी-20 बैठक में हमें इसका उदाहरण देखने को मिलेगा.

भारत और पाकिस्तान के खराब होते रिश्ते
भारतीय संविधान से 5 अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 हटाने और जम्मू कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के बाद से ही भारत और पाकिस्तान के बीच रिश्ते खराब हैं. हालांकि, पिछले कुछ महीनों में पाकिस्तान की ओर से भारत के खिलाफ जमकर बयानबाजी की जा रही है.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर से आतंकवाद पर फटकार सुनने के बाद पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने पीएम मोदी पर निजी हमला किया था. बिलावल भुट्टो ने कहा था कि ओसामा बिन लादेन अब इस दुनिया में नहीं है लेकिन गुजरात का कसाई जिंदा है और भारत का प्रधानमंत्री बन गया है.

बिलावल भुट्टो ने अपने बयान को ठहराया सही
पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अपनी आपत्तिजनक टिप्पणी पर माफी मांगने के बजाय उसे सही ठहराया है. भुट्टो ने कहा कि उन्होंने जो बयान दिया, वह उनकी राय नहीं बल्कि एक ऐतिहासिक तथ्य है. भुट्टो ने ब्लूमबर्ग टीवी को दिए इंटरव्यू में कहा कि पीएम मोदी के लिए ‘गुजरात का कसाई’ का इस्तेमाल उन्होंने नहीं बल्कि गुजरात दंगों के बाद भारत के मुसलमानों ने किया है. बिलावल ने आगे कहा कि इतिहास की बात करने को निजी हमला बताया जा रहा है.

About bheldn

Check Also

कनाडा में हिंदू मंदिर पर अटैक, तोड़फोड़ के बाद हमलावरों ने की अभद्र पेंटिंग

नई दिल्ली, कनाडा में एक बार फिर हिंदू मंदिर को निशाना बनाया गया है. यहां …