पाकिस्तान की परमाणु शक्ति को लेकर भारत को था जो डर, हुआ सच!

नई दिल्ली,

पाकिस्तान की परमाणु शक्ति को लेकर भारत अक्सर चिंता जताता रहा है. अब वही डर सच साबित होता नजर आ रहा है. लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट पर 29 दिसंबर को भारी मात्रा में यूरेनियम पदार्थ पकड़ा गया है. यह यूरेनियम परणामु बम बनाने में सबसे ज्यादा काम आता है. चौंकाने वाली बात है कि यूरेनियम से भरे जिस पैकेज को पकड़ा गया, वह पाकिस्तान से ब्रिटेन बेस्ड ईरानी फर्म के कुछ लोगों के पास भेजा गया था. यह पैकेज पाकिस्तान से खाड़ी देश ओमान के जरिए फ्लाइट से भेजा गया था, जिसे ब्रिटेन में इसके ठिकाने पर पहुंचने से पहले ही पकड़ लिया गया.

सूत्रों की मानें तो यूरेनियम से भरा हुआ यह पैकेज पैसेंजर प्लेन से भेजा गया था. सिक्योरिटी जांच के दौरान इस खतरनाक माल को पकड़ लिया गया. यूरेनियम के पैकेज को पकड़ते ही इसे अलग-थलग एक कमरे में बंद कर दिया गया. तुरंत काउंटर टेरर पुलिस को इस बात की सूचना दी गई. जिसके बाद यह कार्गो कहां से भेजा गया, इसकी जांच शुरू कर दी गई.

किन लोगों को भेजा गया यह खतरनाक पैकेज, अभी तक नहीं हुआ खुलासा
जांच के दौरान फोर्स को पता चला कि यूरेनियम ब्रिटेन बेस्ड एक ईरानी फर्म में भेजा जाना था. हालांकि, यह किन लोगों को भेजा जाना था, इस बात का खुलासा अभी नहीं हो पाया है. ना ही फोर्स ने अभी तक इस मामले में किसी को गिरफ्तार किया है.ब्रिटेन के सुरक्षा अधिकारी इस मामले को पूरी गंभीरता से ले रहे हैं. अब यह मामला एंटी-टेरर ऑपरेशन बन चुका है. असली चिंता का विषय यह है कि क्या ब्रिटेन में रहने वाले ईरानी नागरिकों ने यह मंगवाया था.

ब्रिटेन न्यूक्लियर डिफेंस रेजिमेंट के पूर्व कमांडर हमीश डे ब्रेटन गोर्डन ने कहा कि पाकिस्तान से यूरेनियम के पैकेज का कमर्शियल प्लेन के जरिए ब्रिटेन के ईरानी पते पर आना काफी ज्यादा संदिग्ध बात है. गोर्डन ने आगे कहा कि जितना परमाणु खतरा कोल्ड वार के दौरान था, उतना आज तक कभी नहीं रहा है. उन्होंने आगे कहा कि, अच्छी बात यह है कि सिस्टम ने ठीक तरह से काम किया और इस पैकेज को रोक लिया गया. उन्होंने आगे कहा कि यूरेनियम उच्च स्तर की जहरीले विकरण (रेडिएशन) छोड़ सकता है. साथ ही इसका इस्तेमाल खतरनाक बम बनाने में किया जा सकता है.

वहीं ग्रेटर लंदन की क्षेत्रीय सुरक्षा में तैनात मेट पुलिस ने इस बारे में कहा कि 19 दिसंबर को रुटीन चेकिंग के दौरान यह संदिग्ध पैकेज पकड़ा गया था. जब पैकेज की जांच की गई तो पता चला कि उसमें यूरेनियम भरा हुआ है. मेट पुलिस एक अधिकारी रिचर्ड स्मिथ ने कहा कि वे लोगों को भरोसा दिलाते हैं कि जो खतरनाक सामग्री मिली, वह भारी मात्रा में नहीं थी. अब उसे एक्सपर्ट्स के हवाले कर दिया गया है और इसका जरा भी खतरा आम लोगों पर नहीं है.

रिचर्ड ने आगे कहा कि इस मामले में हमारी जांच लगातार जारी है. अभी तक कि जांच से पता चल रहा है कि यह किसी के लिए भी सीधा खतरा नहीं था. हालांकि, हम इसकी जांच अभी जारी रखेंगे.दूसरी ओर, ब्रिटेन के गृह मंत्रालय ने इस मामले में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. ब्रिटेन के गृह मंत्रालय ने कहा है कि जो जांच चल रही है, उस पर हम कोई टिप्पणी नहीं देते हैं. जांच पूरी होने के बाद ही अब गृह विभाग की ओर से कोई बयान दिया जाएगा.

पाकिस्तान के परमाणु सशक्त होने पर चिंता में भारत समेत पूरी दुनिया 
दुनिया में अगर किसी परमाणु सशक्त देश को शक और खतरे की निगाहों से देखा जाता है, वह सिर्फ पाकिस्तान है. पाकिस्तान का परमाणु सशक्त होना ही भारत समेत दुनिया के कई ताकतवर देशों के लिए चिंता का विषय है. अंतरराष्ट्रीय मंचों पर अक्सर यह डर देखा जाता है कि पाकिस्तान कहीं इस तकनीक को किसी ऐसे देश से साझा न कर ले, जो उसे संभालने की क्षमता ना रखता हो.

संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में भारत कई बार इस मामले को गंभीरता से उठा भी चुका है. हाल ही में जब नॉर्थ कोरिया ने मिसाइल परीक्षण किया था तो भारत ने चिंता जताई थी.भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने पाकिस्तान का उल्लेख किए बिना इशारों में कहा था कि उत्तर कोरिया से मिसाइल तकनीक लेने के लिए पाकिस्तान ने गुप्त रूप से परमाणु तकनीक की अदला-बदली की है. नॉर्थ कोरिया के परमाणु विकसित करने में पाकिस्तान ने सहायता की है.

वहीं, कुछ समय पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने भी पाकिस्तान के परमाणु सशक्त होने पर बड़ा बयान दिया था. बाइडन ने कहा था कि पाकिस्तान शायद दुनिया के उन सबसे खतरनाक देशों में से एक है, जिसके पास बिना उचित निगरानी के परमाणु हथियार हैं.

About bheldn

Check Also

कांग्रेस नेता शशि थरूर को फ्रांस ने दिया सर्वोच्च नागरिक सम्मान, जानिए क्यों मिला अवॉर्ड?

नई दिल्ली, प्रख्यात लेखक और राजनयिक से राजनेता बने शशि थरूर को मंगलवार को फ्रांस …