शांत वादियों में आंदोलन… छात्रों पर लाठीचार्ज ने दिलाई उत्‍तराखंड संघर्ष की याद, सहमी देवभूमि

देहरादून

उत्तराखंड की शांत वादियां गुरुवार एक बार फिर से आंदोलन के नारों से गूंज गयी। उत्तराखंड राज्य प्राप्ति आंदोलन के बाद यह पहला आंदोलन होगा जिसमें बेतहाशा आक्रोशित युवा सड़कों पर आ गये। युवाओं ने पथराव किया तो पुलिस ने लाठीचार्ज। किसी के सिर पर डंडे बरसे तो किसी को पत्थर से चोट लगी। यहां तक कि वार्ता के दौरान आंदेालनकारियों ने पानी की खाली बोतलें भी फेंकी जो सिटी मजिस्ट्रेट कुश्म चौहान की आंख में लग गयी। हालांकि उन्होंने मामले को तूल नहीं दिया।

उत्तराखंड राज्य के लिए जब उत्तराखंडियों ने लड़ाई लड़ी थी तो महिलाएं और युवा वर्ग सबसे आगे था। युवा ही थे जो उस आंदोलन की जान रहे। देहरादून, मसूरी और खटीमा में गोलीकांड हो या फिर मुजफ्फरनगर कांड, उत्तराखंड के लोगों ने हर जुल्म और पुलिस की मार सह कर भी आंदोलन नहीं छोड़ा था।

क्या था वो आंदोलन
यह वह आंदोलन था जब हर रोड सड़कों पर आंदोलनकारियों का जमावड़ा होता था और राज्य की मांग को लेकर आवाज बुलंद होती थी। राज्य आंदोलनकारियों और शहीदों की बदौलत अपना राज्य मिला तो पहाड़वासियों का एक सपना पूरा हुआ। लगा कि अब प्रदेश के लोगों के दिन फिर जाएंगे। अपना राज्य है तो युवाओं को नौकरी के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। लेकिन आज जो देहरादून की सड़कों पर तांडव हुआ उससे उत्तराखंड आंदोलन की यादें ताजा हो गयी।

सड़क जाम.. युवाओं का जमावड़ा
आज देहरादून की राजपुर रोड कांग्रेस भवन से लेकर घंटाघर तक पूरी तरह से जाम थी। हर जगह युवाओं के जत्थे सड़क घेर कर बैठे हुए थे। अचानक से बीच में युवा भड़क गये और उन्होंने पुलिस कर्मियों पर पथराव कर दिया। वहीं कुछ देर बाद आंदोलनकारियों के हंगामे को रोकने के लिए पुलिस ने उन पर बुरी तरह से लाठियां बरसा दीं।

इस दौरान वहां पर उत्तराखंड क्रांति दल से जुड़े नेता, राज्य आंदोलनकारी भी थे जो यह कहते नजर आए कि राज्य प्राप्ति आंदेालन की तरह ही आज एक बार फिर से युवा शक्ति एकजुट हो कर अपने अधिकारों के लिए सड़कों पर आ गयी है। सरकार को इनकी मांगों पर विचार करना चाहिए। अन्यथा यह आंदोलन बड़ा रूप ले सकता है

About bheldn

Check Also

स्लॉटर हाउस में अमानवीय स्थिति, दबिश देकर पुलिस ने 57 नाबालिग बच्चों का किया रेस्क्यू

गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद की क्राइम ब्रांच पुलिस और थाना मसूरी पुलिस की संयुक्त …