दो यूनियनों की लड़ाई में ऐबू यूनियन के नेता सस्पेंड

भोपाल

कभी एक यूनियन के खास रहे नेता ने यूनियन क्या छोड़ी मानों उन्होंने अपने आप को परेशानी में डाल दिया । ले दे कर वह एक नई यूनियन ऐबू में बड़ा पद लेकर शामिल हो गये । यह बात भी पुरानी यूनियन को न गवार गुजरी । एक छोटी सी गलती ने एक फेक व्हाट्सेप डालना उनके लिये महंगा पड़ गया । उनकी पुरानी यूनियन के चहेतों ने इस मामले को इतना तूल पकड़ा है कि मामला केन्द्र सरकार के एक मंत्री तक पहुंच गया है बस किसी भी तरह ऐबू के इस नेता रोहित कुमार को दिल्ली कॉरपोरेट के निर्देश पर बीएचईएल भोपाल प्रबंधन ने सस्पेंड के आदेश निकाल डाले ।

सब मिलाकर यह मामला पूरे भेल कारखाने में चर्चाओं में है ऐसा भी नहीं की भेल प्रबंधन इस मामले की सच्चाई को न जानता हो लेकिन दिल्ली कॉरपोरेट के आदेश के चलते उसे सस्पेंड के आर्डर निकालना ही पढ़ा । इधर एक कर्मचारी ने ऑनलाइन गेम में पैसा फसाकर खुद को सुसाइड कर लिया। कर्मचारी का नाम लोकेश्वर बताया जा रहा है । मामला पुलिस को सौंप दिया गया है । अब तो जांच के बाद ही पता चलेगा की असली बात क्या है ।

About bheldn

Check Also

बीएचईएल के एक ठेकेदार यूनियन नेता सोशल मीडिया पर छाये

बीएचईएल भोपाल के एक ठेकेदार नेता की अजब कहानी है । सिर्फ भोपाल यूनिट ही …