क्‍या केजरीवाल तक पहुंचेगी जांच की आंच? सिसोदिया और सत्‍येंद्र जैन के बाद सीएम के इस्‍तीफे की उठी मांग

नई दिल्‍ली

आम आदमी पार्टी (AAP) की मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं। दिल्‍ली सरकार के दो मंत्रियों ने एक ही दिन इस्‍तीफा दे दिया है। मनीष सिसोदिया और सत्‍येंद्र जैन के अचानक इस्‍तीफों ने सियासी गलियारों में हड़कंप मचा दिया है। सिसोदिया दिल्‍ली के डिप्‍टी सीएम थे तो जैन स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री। दोनों मंत्री जेल में हैं। मनीष सिसोदिया और सत्‍येंद्र जैन के बाद दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल के इस्‍तीफे की मांग भी उठने लगी है। भारतीय जनता पार्टी (BJP) और कांग्रेस दोनों के इस मसले पर सुर बिल्‍कुल एक से हैं। दोनों विपक्षी दलों ने नैतिक आधार पर सीएम से इस्‍तीफा देने को कहा है। उनका कहना है कि जांच की आंच जल्‍द ही केजरीवाल के घर तक पहुंचने वाली है।

रविवार शाम को सीबीआई ने मनीष सिसोदिया को गिरफ्तार कर लिया था। आबकारी नीति 2021-22 में भ्रष्‍टाचार को लेकर सिसोदिया की गिरफ्तारी हुई थी। इस मामले में AAP के कई और नेता भी जांच के घेरे में हैं। कुछ सलाखों के पीछे भी हैं। इनमें विजय नायर शामिल हैं। पिछले साल सीबीआई ने नायर को गिरफ्तार किया था। मनी लॉन्‍ड्रिंग मामले में पहले से ही सत्‍येंद्र जैन जेल में हैं। उन पर प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने केस दर्ज किया हुआ है।

मंगलवार को मनीष सिसोदिया के साथ ही सत्‍येंद्र जैन ने इस्‍तीफा दे दिया। इन दोनों का इस्‍तीफा सीएम केजरीवाल ने मंजूर कर लिया। हालांकि, अब बीजेपी और कांग्रेस दोनों आप पर हमलावर हो गई हैं। वे केजरीवाल के इस्‍तीफे की मांग करने लगी हैं।

बीजेपी और कांग्रेस दोनों हुईं हमलावर
दिल्‍ली कांग्रेस चीफ अनिल कुमार चौधरी ने कहा है कि सीबीआई और ईडी की जांच अब आगे बढ़कर सीएम केजरीवाल तक पहुंचेगी। केजरीवाल को भी इस बात का एहसास है। नैतिक आधार पर उन्‍हें दिल्‍ली के सीएम पद से इस्‍तीफा दे देना चाहिए। कैलाश गहलोत और राजकुमार आनंद को सिसोदिया की जिम्‍मेदारियां सौंपने की खबरों के बीच चौधरी ने ये बातें कहीं हैं। अन‍िल चौधरी बोले कि ये वही केजरीवाल हैं जो 2013 में यूपीए से सवाल खड़ेकर उससे सत्‍ता छोड़ने के लिए कहते थे। यहां तक उन्‍होंने मनमोहन सिंह जैसे शख्‍स से इस्‍तीफे की मांग की थी। अनिल कुमार के मुताबिक, ये भ्रष्‍टाचार कराया गया है। जिन लोगों से भी ऐसा कराया गया है, वे सभी धीरे-धीरे सलाखों के पीछे जा रहे हैं। सीएम को चाहिए कि वह इस्‍तीफा दें ताकि मामले में निष्‍पक्ष जांच हो सके।

इस्‍तीफों को बताया जनता की जीत
बीजेपी के कई नेता तो पहले ही सीएम से इस्‍तीफे की मांग करते रहे हैं। मनीष सिसोदिया और सत्‍येंद्र जैन के इस्‍तीफे के बाद भी बीजेपी की तुरंत प्रतिक्रिया आई। दिल्‍ली प्रदेश बीजेपी नेता कपिल मिश्रा बोले कि यह दिल्ली की जनता की जीत है। सिसोदिया और जैन को उन्होंने भ्रष्‍ट करार दिया। इसके साथ ही कहा कि इन मंत्रियों को इस्‍तीफा देना पड़ा है। इन्‍हें बचाने की सीएम केजरीवाल की सभी कोशिशें नाकाम साबित हुई हैं।
बीजेपी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने AAP को कट, कमीशन और भ्रष्टाचार की पार्टी बताया। उन्‍होंने कहा कि इसके नेताओं मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन को बहुत पहले मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे देना चाहिए था। ऐसा तभी करना चाहिए था जब भ्रष्टाचार के आरोप सामने आए थे।

About bheldn

Check Also

5 राज्यों में ताबड़तोड़ गठबंधन के लिए कांग्रेस और दूसरे दल इन 4 कारणों से हुए मजबूर

नई दिल्ली, कांग्रेस के लिए यह हफ्ता खुशियां लेकर आया. उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी …