‘भारत में बिलावल के साथ हुआ ऐसा सलूक, मेहमान…’, क्यों भड़के पाकिस्तानी

नई दिल्ली,

पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो ने अपने भारत दौरे में कश्मीर में जी-20 की आगामी बैठक को लेकर जो धमकी भरा बयान दिया, उसे लेकर भारत में उनकी काफी आलोचना हो रही है. वहीं, पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने उनके बयान पर सफाई देते हुए कहा है कि बिलावल के बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया. इस बात को लेकर पाकिस्तान के लोग भी भड़क गए हैं और कह रहे हैं कि भारत में बिलावल का अपमान हुआ है.

पाकिस्तान के जाने-माने एक्टर अदनान सिद्दीकी ने कहा है कि एक अच्छा मेजबान राजनीतिक मतभेदों को दूर रखकर मेहमानों का सम्मान करता है.दिवंगत अभिनेत्री श्रीदेवी के साथ फिल्म मॉम में काम कर चुके एक्टर ने लिखा, ‘एक अच्छा मेजबान मेहमाननवाजी के मूल्य को बरकरार रखता है और किसी भी राजनीतिक या वैचारिक मतभेदों की परवाह किए बिना मेहमानों से सम्मान के साथ व्यवहार करता है. किसी मेहमान को नीचा दिखाने से कोई लाभ नहीं होता बल्कि इससे स्थिति और खराब ही होती है.’

अन्य पाकिस्तानी यूजर्स भी लिख रहे हैं कि भारत में बिलावल भुट्टो के साथ सही तरीके से बर्ताव नहीं हुआ. सनाफ नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘मेजबान को इतना ठंडे तरीके से बर्ताव नहीं करना चाहिए था.’

क्या कहा था बिलावल ने?
बिलावल भुट्टो 4-5 मई के बीच गोवा में आयोजित शंघाई सहयोग संगठन (SCO) की बैठक में भाग लेने भारत आए थे. 12 सालों में यह पहली बार था जब पाकिस्तान के किसी विदेश मंत्री ने भारत का दौरा किया हो. एससीओ की बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत में बिलावल ने कहा कि कश्मीर में जी-20 की बैठक आयोजित करना भारत की संकीर्णता को दिखाता है.

मेजबान भारत ने 22-24 मई के बीच अंतरराष्ट्रीय पर्यटन पर जी-20 की बैठक को कश्मीर में कराने का फैसला किया है जिस पर पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने सख्त आपत्ति जताई.उन्होंने कहा था, ‘हम इसकी निंदा करते हैं और वक्त आने पर हम इसका ऐसा जवाब देंगे कि याद रहेगा.’ हालांकि, बाद में पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने उनके बयान पर सफाई देने की कोशिश में कहा था कि भारत के कई मीडिया आउटलेट्स ने बिलावल के बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश करने की कोशिश की.

‘आतंक का प्रवक्ता’ कहने पर पाकिस्तानियों को आपत्ति
वहीं, विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भी बैठक के बाद प्रेस से बात करते हुए कहा कि बिलावल ‘आतंक की इंडस्ट्री के प्रवक्ता हैं, वो इसको बढ़ावा देने और इसे सही ठहराने वाले हैं.’पाकिस्तान के पत्रकार गुलाम अब्बास शाह ने जयशंकर के इस बयान पर आपत्ति जताते हुए कहा है कि भारत में बिलावल भुट्टो से जिस तरीके से बर्ताव किया गया, इससे उन्हें झटका लगा है.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘बिलावल भुट्टो जरदारी के साथ जिस तरीके से बर्ताव किया गया, वो झटका देने वाला है. एससीओ शिखर सम्मेलन के अंत में भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने विवादित टिप्पणी की और उन्हें आंतक का प्रवक्ता, इसे बढ़ावा देने और इसे सही ठहराने वाला कहा. इन टिप्पणियों के बाद क्या पीएम शहबाज शरीफ जुलाई में भारत जाएंगे?’

गौरतलब है कि 3-4 जुलाई के बीच एससीओ राष्ट्राध्यक्षों की अहम बैठक होने वाली है. इस बैठक में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भी हिस्सा ले रहे हैं. उम्मीद है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ भी इसमें हिस्सा ले सकते हैं.पंजाब पुलिस के इंस्पेक्टर जनरल रहे ख्वाजा खालिद फारूक ने भी ट्विटर पर लिखा, ‘दोनों पड़ोसियों के बीच द्विपक्षीय रिश्तों के ठीक होने की कोई संभावना नहीं है, यह निराशाजनक है.’एक अन्य पाकस्तानी यूजर ने लिखा, ‘इससे अधिक अपमान की बात क्यों हो सकती है. कितनी शर्म की बात है.’

 

About bheldn

Check Also

महाराष्ट्र: BJP ने स्टार प्रचारकों की लिस्ट से हटाया एकनाथ शिंदे और अजित पवार का नाम

नई दिल्ली, भाजपा ने शुक्रवार को महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री अजित पवार …