कर्नाटक: 160 वोट से जीत गई थीं कांग्रेस प्रत्याशी, री-काउंटिंग में 16 वोट से जीता BJP उम्मीदवार

नई दिल्ली,

कर्नाटक चुनाव के नतीजे आ चुके हैं. 224 विधानसभा सीटों वाले दक्षिण के द्वार पर कांग्रेस ने 135 सीटें जीतते हुए बीजेपी को पटखनी दे दी है. बीजेपी यहां 66 सीटों पर सिमट गई है तो वहीं जेडीएस के खाते में 19 सीट आई हैं. कर्नाटक के नतीजों के बीच एक सीट ऐसी भी है, जहां मतगणना के दौरान जमकर बवाल कटा.

इस सीट पर पहले तो 160 वोटों से कांग्रेस प्रत्याशी को विनर घोषित कर दिया गया, लेकिन बाद में दोबारा काउंटिंग होने पर 16 वोटों से बीजेपी प्रत्याशी ने जीत हासिल की. इस पूरी प्रक्रिया के बीच बीजेपी और कांग्रेस दोनों की तरफ से नेताओं ने मतगणना केंद्र पर जमकर हंगमा किया.

यह पूरा बवाल कर्नाटक की जयनगर सीट के एसएसएमआरवी कॉलेज मतगणना केंद्र पर हुआ. यहां से बीजेपी ने सीके राममूर्ति को मैदान में उतारा था तो वहीं कांग्रेस की तरफ से प्रदेश इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष रामलिंगा रेड्डी की बेटी सौम्या रेड्डी चुनाव लड़ रही थीं. शनिवार (13 मई) को इस सीट पर मतगणना के अंतिम समय तनाव की स्थिति बन गई.

पहले हुई थी कांग्रेस प्रत्याशी की जीत
दरअसल, मतगणना के बाद देर रात कांग्रेस की सौम्या रेड्डी को 160 वोटों से विजेता घोषित कर दिया गया. नतीजे सामने आने के बाद बीजेपी प्रत्याशी सीके राममूर्ति दोबारा मतगणना कराने की मांग पर अड़ गए. काउंटिंग सेंटर पर उनके साथ बीजेपी सांसद और युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या भी थे. दोनों ने फिर से मतगणना कराने की मांग शुरू कर दी. वहीं, सौम्या रेड्डी और उनके पिता रामलिंगा रेड्डी ने इसका विरोध किया. हंगामे के बीच कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डीके शिवकुमार भी वहां पहुंच गए और धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया.

कांग्रेस ने लगाया सांठगांठ का आरोप
बवाल के बीच जयनगर के मतगणना सेंटर पर दोबारा काउंटिंग शुरू की गई और इस बार 16 वोट से बीजेपी कैंडिडेट सीके राममूर्ति ने जीत दर्ज की. इसके बाद देर रात इस सीट का रिजल्ट घोषित कर दिया गया. हालांकि, कांग्रेस ने दोबारा मतगणना में बीजेपी प्रत्याशी की जीत के बाद अधिकारियों पर सांठगांठ करने का आरोप लगाया. रामलिंगा रेड्डी ने कहा कि सरकारी मशीनरी ने सीके राममूर्ति को फायदा पहुंचाया है. सीके राममूर्ति को 57,797 वोट मिले, जबकि उनकी प्रतिद्वंद्वी सौम्या रेड्डी को 57,781 वोट.

राहुल गांधी को दिया जीत का श्रेय
बता दें कि कर्नाटक की जीत पर कांग्रेस देशभर में जश्न मना रही है. तमाम कांग्रेसी इस जीत का श्रेय राहुल गांधी को दे रहे हैं. कांग्रेस पिछले एक दशक से राजनीतिक अस्थिरता से जूझ रही है. 2014 के बाद से अब तक 50 से ज्यादा चुनावों में कांग्रेस को हार मिली. लेकिन पिछले 6 महीने के अंदर ये कांग्रेस की दूसरी बड़ी जीत है. पहले हिमाचल प्रदेश और कर्नाटक. कांग्रेस ये भी बता रही है कि कर्नाटक में राहुल गांधी की भारत जोड़ा यात्रा 20 विधानसभा क्षेत्रों से होकर गुजरी, जिनमें से बीजेपी सिर्फ 2 विधानसभा क्षेत्रों में जीती है, जबकि 15 विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस को जीत मिली है.

 

About bheldn

Check Also

लोकसभा चुनाव से पहले मायावती को बड़ा झटका, BSP छोड़ने की तैयारी में सभी 10 सांसद?

लखनऊ: लोकसभा चुनाव से पहले देश के सबसे बड़े सियासी सूबे उत्तर प्रदेश में पूर्व …