‘जाकिर नाइक के एजेंट ने सौरभ को सलीम बनाया’, गिरफ्तार संदिग्ध आतंकी के पिता की आपबीती

भोपाल,

बीते हफ्ते मध्य प्रदेश के भोपाल से एंटी टेररिज्म स्क्वैड (एटीएस) ने इस्लामिक संगठन हिज्ब-उत-तहरीर से जुड़े 16 लोगों को गिरफ्तार किया था. इन गिरफ्तारियों के बाद से जबरन धर्मांतरण की कई कहानियां सामने आ रही हैं. इन्हीं में से एक कहानी है भोपाल के सौरभ राजवैद्य उर्फ मोहम्मद सलीम के धर्म परिवर्तन की.

भोपाल के बैरसिया का रहने वाला सौरभ जैन राजवैद्य एक पढ़े-लिखे परिवार से ताल्लुक रखता है. लेकिन सौरभ का हिंदू धर्म से इस्लाम अपनाने का वाकया हैरान कर देने वाला है. सौरभ के पिता अशोक जैन राजवैद्य का आरोप है कि उनके बेटे का ब्रेनवॉश कर उसे मुसलमान बना दिया गया.

जाकिर नाइक के करीबी ने ब्रेनवॉश किया
सौरभ के पिता का कहना है कि मेरा बेटा 12 वीं कक्षा तक आरएसएस की शाखाओं में जाता था. वह पीएचडी करने के बाद भोपाल के एक कॉलेज में प्रोफेसर बन गया था. लेकिन भोपाल के एक कॉलेज में पढ़ाने के दौरान कमाल नाम के एक प्रोफेसर से उनके बेटे का संपर्क हुआ. उस प्रोफेसर ने मेरे बेटे का ब्रेनवॉश करना शुरू कर दिया.

पिता का आरोप है कि प्रोफेसर कमाल इस्लामिक कट्टरपंथी जाकिर नाइक का खास हुआ करता था. सौरभ के पिता का कहना है कि मैंने अपने पोतों के नाम बड़े प्यार से अनुनय और वत्सल रखे थे लेकिन सौरभ ने उनके नाम बदलकर यूसुफ और इस्माइल कर दिए.

सौरभ के परिवार का कहना है कि उनके बेटे को जाकिर नाइक की वीडियो दिखाई जाती थी. वह नाइक की तहरीरें सुनता था. कट्टरपंथी साहित्य पढ़ता था. उसे जाकिर नाइक की सीडी और साहित्य दिए जाने लगे. इस्लाम से प्रभावित होने के बाद सौरभ उग्र होने लगा था. वह कमरा बंद कर जाकिर नाइक की सीडी देखता था. मेरे बेटे को साजिश के तहत फंसाया गया है.

सौरभ के पिता कहते हैं कि उनके बेटे के साथ चार अन्य लोगों ने भी इस्लाम धर्म अपनाया था. उन्होंने बकायदा इसकी शिकायत पुलिस में की थी लेकिन तब इन्होंने कह दिया कि उन्होंने अपनी मर्जी से धर्म बदला है.

रक्षाबंधन पर बहन से राखी नहीं बंधवाई
अशोक जैन कहते हैं कि सौरभ जब 2014 में रक्षाबंधन पर घर आया था तो उसने राखी बंधवाने से इनकार कर दिया था. उसने अपनी चारों बहनों से राखी नहीं बंधवाई. इसके बाद पिता ने बेटे का परिवार से बायकॉट कर दिया. पिता का कहना है कि उन्हें अपने बेटे के इस्लाम कबूलने के बारे में तब पता चला, जब मुंबई से एक रजिस्ट्रार का पत्र आया. जिसमें उनके बेटे सौरभ और बहू और उनके दोनों बच्चों के मुस्लिम नाम लिखे हुए थे.

बुर्के पर हुआ विवाद
सौरभ के पिता का कहना है कि उनकी बहू ने एक बार जब घर में बुर्का पहना था तो उस पर काफी विवाद हुआ था. सौरभ की पत्नी को बुर्का नहीं पहनने को कहा गया तो सौरभ ने बुर्के को समाज में जरूरी बताया. इसके बाद विवाद बढ़ा. पिता का आरोप है कि जब उनका बेटा हाल ही में घर आया था तो हबीबगंज का नाम रानी कमलापति स्टेशन रखे जाने पर दोनों के बीच विवाद हो गया था, जिसके बाद सौरभ उर्फ सलीम की अपने पिता से बात नहीं हुई.

बदहाल मां
सौरभ उर्फ सलीम की मां वसंती जैन का कहना है कि उन्हें अपने बेटे की बहुत याद आती है. वह कहती हैं कि उनका बेटा पहले पूजा-पाठ किया करता था लेकिन बाद में कमरा बंद कर नमाज पढ़ने लगा. उनका कहना है कि मेरे बेटे को जाकिर नाइक की गैंग के लोगों ने जानबूझकर फंसाया है.

बता दें कि सौरभ उर्फ सलीम के साथ भोपाल-छिंदवाड़ा के 11 और हैदराबाद के पांच कट्टरपंथियों से एटीएस पूछताछ कर रही है. एटीएस का आरोप है कि आरोपी भारत के लोकतांत्रिक संस्थानों को खत्म कर यहां इस्लाम का शासन स्थापित करना चाहते थे. आरोपियों के खिलाफ यूएपीए (गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम, 1967) और अन्य संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है.

कैसे हुआ टेरर मॉड्यूल का भंडाफोड़?
मध्य प्रदेश एटीएस ने हिज्ब-उत-तहरीर से जुड़े 16 लोगों को गिरफ्तार किया था. इनसे पूछताछ में हिज्ब-उत-तहरीर के काम करने का तरीका पता चला. इन 16 लोगों में से आठ पहले हिंदू थे, जिनका धर्म परिवर्तन कराया गया था. इन्हें जेहाद की ट्रेनिंग दी गई थी. एटीएस की रिपोर्ट के मुताबिक, हिज्ब-उत-तहरीर के गिरफ्तार सदस्य लड़कियों को लव जिहाद का शिकार भी बना रहे थे और उनसे विस्फोटक सामग्री के साथ-साथ देशविरोधी साहित्य भी बरामद किये गए हैं.

 

About bheldn

Check Also

एलन मस्‍क का बदल चुका है प्‍लान? टेस्‍ला के निकट भविष्‍य में भारत आने की संभावनाएं कम

नई दिल्‍ली भारत में टेस्‍ला की एंट्री पर बड़ा अपडेट है। मुमकिन है कि यह …