सारे दंगाई 1-1 लाख जमा करो वरना संपत्ति जब्त होगी… बिजनौर में बवाल करने वालों से प्रशासन की दो टूक

बिजनौर

उत्तर प्रदेश के बिजनौर में प्रशासन ने आपस में फसाद करने वाले दो समूह के 17 लोगों के खिलाफ सख्ती दिखाई है। गांव में तालाब के पानी के इस्तेमाल को लेकर भिड़ने वाले लोगों पर एक-एक लाख रुपये का आर्थिक जुर्माना लगाया गया है। ऐसा नहीं करने की स्थिति में उनकी संपत्ति जब्त कर ली जाएगी।

यह मामला बिजनौर के पिट्टा औंढा गांव में हुए झड़प से जुड़ा हुआ है। एक बार हुए विवाद के बाद पुलिस और प्रशासन ने सभी आरोपियों से बॉन्ड पर साइन करवाया था, जिसमें आगे से विवाद नहीं करने का वादा लिया गया था। लेकिन दोबारा होने की स्थिति में प्रशासन ने कड़ा रुख दिखाया है। सभी 17 नामजद से 15 दिनों के भीतर एक-एक लाख की रकम भरने का निर्देश दिया गया है।

इस साल मार्च में गांव में तालाब के पानी के इस्तेमाल को लेकर हुए विवाद के बाद दो ग्रुप आमने-सामने आ गए थे। 17 लोग नामजद हुए। सभी लोगों का सीआरपीसी की धारा 151/107/116 के तहत चालान किया गया। इसके साथ ही सभी से 1 लाख रुपये का बेल बॉंड भी भरवाया गया। लेकिन दोनों ग्रुप एक बार फिर से 24 अप्रैल को भिड़ गए।

घटना की सूचना मिलने पर पुलिस फौरन गांव पहुंची और उपद्रवियों के खिलाफ सीआरपीसी की धारा 120बी के तहत ऐक्शन लेते हुए एसडीएम रितु चौधरी को रिपोर्ट भेजी। उन्होंने सभी 17 आरोपियों से बॉन्ड की रकम वसूलने के लिए 122बी के तहत आदेश पारित किया। उन्होंने बताया कि पुलिस ने सभी आरोपियों के घर पर नोटिस चस्पा कर दिया है। जो कोई भी पर्सनल बॉन्ड नहीं भरेगा, उसे बख्शा नहीं जाएगा।

सिटी एसपी प्रवीण कुमार रंजन ने बताया कि मार्च में गांव में दोनों ग्रुप भिड़ गए थे। उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ लेकिन पर्सनल बॉन्ड की शर्त पर सभी को जमानत मिल गई। अब जब दोनों तरफ से फिर से विवाद की स्थिति हुई तो एसडीएम ने एक-एक लाख रुपये जमा कराने का निर्देश जारी किया है।

About bheldn

Check Also

महाराष्ट्र: BJP ने स्टार प्रचारकों की लिस्ट से हटाया एकनाथ शिंदे और अजित पवार का नाम

नई दिल्ली, भाजपा ने शुक्रवार को महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री अजित पवार …