नीति आयोग की बैठक में 11 मुख्यमंत्री नहीं हुए शामिल, नीतीश-ममता समेत इन नेताओं ने बनाई दूरी

नई दिल्ली,

नीति आयोग की शनिवार को 8वीं बैठक हुई. इसकी अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की. इसमें शामिल होने के लिए सभी राज्यों के मुख्यमंत्री और केंद्र शासित प्रदेशों के उपराज्यपालों को बुलाया गया था. मगर, इसमें तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव, दिल्ली सीएम के सीएम अरविंद केजरीवाल, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, बिहार के सीएम नीतीश कुमार, तमिलनाडु के सीएम एमके स्टालिन, पंजाब के सीएम भगवंत मान, केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, मणिपुर के सीएम एन बीरेन सिंह, और कर्नाटक के सीएम सिद्दारमैया शामिल नहीं हुए.

प्रगति मैदान में हुई इस बैठक का मुख्य विषय विकसित भारत@2047: टीम इंडिया की भूमिका था. बैठक में एमएसएमई, बुनियादी ढांचा और निवेश, महिला सशक्तीकरण, स्वास्थ्य एवं पोषण, कौशल विकास और गति शक्ति समेत प्रमुख विषयों पर चर्चा हुई.

बैठक में शामिल होने का कोई औचित्य नहीं- अरविंद केजरीवाल
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने पीएम को पत्र लिखकर बैठक में शामिल न होने की जानकारी दे दी थी. उन्होंने कहा था कि अध्यादेश लाकर कोऑपरेटिव फेडरलिज्म का मजाक बनाया जा रहा है. ऐसे में नीति आयोग की बैठक में शामिल होने का कोई औचित्य नहीं रह जाता. ऐसी बैठक में नहीं जाना चाहिए, इसलिए वे बैठक का बहिष्कार कर रहे हैं.

उन्होंने ट्वीट कर कहा था, अगर देश के प्रधानमंत्री ही सुप्रीम कोर्ट के आदेशों को मानने से मना करते हैं तो लोग फिर न्याय के लिए कहां जाएंगे? प्रधानमंत्री जी, आप देश के पिता समान हैं. आप गैर बीजेपी सरकारों को काम करने दें, उनका काम रोकें नहीं. लोग आपके अध्यादेश से बहुत नाराज हैं. मेरे लिए कल की नीति आयोग की मीटिंग में शामिल होना संभव नहीं होगा.

पहले से तय कार्यक्रमों के कारण नहीं आ पाएंगे: नीतीश
वहीं बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने पूर्व निर्धारित व्यस्तताओं के कारण बैठक में शामिल नहीं की बात कही थी. उधर, पंजाब के सीएम भगवंत मान ने कहा था कि केंद्र पंजाब के हितों का ध्यान नहीं रख रहा. इसलिए हम बैठक में शामिल नहीं हो सकते. बैठक में नीतीश कुमार के शामिल नहीं होने पर बीजेपी नेता गिरिराज सिंह ने कहा कि गांव की एक कहानी है कि जब रोने का मन होता है तो आंख में गढ़ा छुट्टी. नीतीश कुमार को अभी नीति आयोग गड़बड़ दिखेगा. केंद्र सरकार यदि पैसा न दे तो बिहार की बत्ती बुझ जाएगी.

भगवंत मान को की बैठक में जाना चाहिए- पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष
उधर, पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वडिंग ने भगवंत मान के नीति आयोग की बैठक में शामिल न होने के फैसले का विरोध किया. उन्होंने कहा कि नीति आयोग किसी व्यक्ति विशेष का नहीं है. भगवंत मान को नीति आयोग की बैठक में जाना चाहिए और वहां जाकर मजबूती के साथ पंजाब की आवाज को उठाना चाहिए.

नीति आयोग भेदभाव कर रहा है- अखिलेश यादव
यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने नीति आयोग कि बैठक में विपक्षी दलों के मुख्यमंत्रियों के न जाने पर कहा कि जितने भी मुख्यमंत्री इस बैठक में नहीं गए हैं, उनके साथ नीति आयोग भेदभाव कर रहा है. लोकतंत्र मे विपक्ष का सम्मान नहीं तो लोकतंत्र किस बात के लिए है.

 

About bheldn

Check Also

राजनाथ सिंह के बाद अब “परिवार” को मोर्चे पर उतारेगी BJP, क्षत्रिय मतदाताओं को लामबंद करने की तैयारी!

गाजियाबाद गाजियाबाद लोकसभा से बीजेपी प्रत्याशी अतुल गर्ग को रेकॉर्ड वोटों से जिताने के लिए …