जंतर-मंतर पर प्रदर्शन को लेकर पहलवानों पर FIR, विनेश बोलीं- क्या देश में शुरू हुई तानाशाही

नई दिल्ली,

दिल्ली पुलिस ने जंतर-मंतर पर हुई घटना के मामले में रविवार देर शाम एफआईआर दर्ज की है. प्राप्त जानकारी के अनुसार, दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शन के आयोजकों, और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है. प्रदर्शन के आयोजकों पर आईपीसी की धारा- 147, 149, 186, 188, 332, 353, PDPP अधिनियम की धारा 3 के तहत मामला दर्ज किया गया है. बता दें कि रविवार को संसद भवन के उद्घाटन के दौरान, पहलवानों ने महिला महापंचायत का ऐलान किया था. रविवार को जब पहलवान, मार्च निकाल रहे थे, तो इस दौरान पुलिस ने सख्त कार्रवाई की थी, साथ ही प्रदर्शन स्थल से पहलवानों के तंबू आदि भी हटा दिए थे.

विनेश फोगाट ने किया ट्वीट
एफआईआर दर्ज होने को लेकर पहलवान विनेश फोगाट की प्रतिक्रिया सामने आई है. उन्होंने ट्वीट किया कि, ‘दिल्ली पुलिस को यौन शोषण करने वाले बृज भूषण के ख़िलाफ़ FIR दर्ज करने में 7 दिन लगते हैं और शांतिपूर्ण आंदोलन करने पर हमारे खिलाफ FIR दर्ज करने में 7 घंटे भी नहीं लगाए. क्या इस देश में तानाशाही शुरू हो गई है ? सारी दुनिया देख रही है सरकार अपने खिलाड़ियों के साथ कैसा बर्ताव कर रही है. एक नया इतिहास लिखा जा रहा है.’

महिला महापंचायत करने पर दिल्ली पुलिस ने की थी कार्रवाई
बता दें कि रविवार को दिल्ली पुलिस ने सख्त कार्रवाई की थी. पहलवानों पर रविवार को हुई कार्रवाई के बाद जहां दिल्ली पुलिस की चौतरफा निंदा हो रही है, वहीं इस पूरे मामले के कुछ घंटे बाद पहलवानों ने लड़ाई जारी रखने का ऐलान किया था. साक्षी मलिक ने कहा था कि पहलवानों का विरोध अभी खत्म नहीं हुआ है और जैसे ही दिल्ली पुलिस उन्हें रिहा करेगी, वे जंतर-मंतर पर वापस लौटेंगे. रविवार को ‘महिला महापंचायत’ के दौरान नए संसद भवन की ओर जाते हुए दिल्ली पुलिस ने पहलवानों को हिरासत में लिया था. हिरासत में लिए गए पहलवानों में विनेश फोगट, बजरंग पुनिया और अन्य प्रदर्शनकारी पहलवान भी शामिल थे.

हमारा विरोध खत्म नहीं हुआः साक्षी मलिक
साक्षी ने ट्विटर पर लिखा था, “हमारा विरोध खत्म नहीं हुआ है. हम पुलिस हिरासत से रिहा हुए हैं और जंतर-मंतर पर अपना सत्याग्रह वापस शुरू करेंगे. इस देश में महिला पहलवानों का सत्याग्रह होगा, तानाशाही नहीं.” सामने आया था कि रविवार दोपहर को उन्हें हिरासत में लिए जाने के बाद, एक बस में चढ़ा दिया गया, और बुराड़ी के एक निजी फार्म हाउस में बनी एक अस्थायी जेल में स्थानांतरित कर दिया गया. बाद में, दिल्ली पुलिस ने जंतर-मंतर पर प्रदर्शन स्थल से पहलवानों के चारपाई, गद्दे, कूलर, पंखे और अन्य सामान हटा दिए. शाम करीब साढ़े पांच बजे पहलवानों को मेडिकल जांच के लिए ले जाया गया था.

महिला महापंचायत की नहीं थी अनुमति: दिल्ली पुलिस
वहीं, पुलिस अधीक्षक (अंबाला) जशनदीप सिंह ने कहा कि दिल्ली में ‘महिला महापंचायत’ आयोजित करने की अनुमति नहीं दी गई थी. किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए सोनीपत, झज्जर, जींद, कुरुक्षेत्र, अंबाला, सिरसा और गुरुग्राम जिलों में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है और हरियाणा में प्रवेश करने वाले सभी वाहनों की गहन जांच की जा रही है. इस बीच, कई वीडियो में पुलिसकर्मियों को पहलवानों के साथ हाथापाई करते दिखाया गया है. दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख स्वाति मालीवाल ने दिल्ली पुलिस आयुक्त संजय अरोड़ा को पत्र लिखकर WFI प्रमुख बृजभूषण शरण सिंह की गिरफ्तारी की मांग की है. उन्होंने पहलवानों की रिहाई और उन्हें हिरासत में लेने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई की भी मांग की.

 

About bheldn

Check Also

प्राइवेट प्रॉपर्टी पर हो सकता है किसी समुदाय या संगठन का हक, सुप्रीम कोर्ट के 9 जजों की बेंच ने क्या कहा?

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि संविधान का उद्देश्य सामाजिक बदलाव की भावना …