‘जो खेलेगा, वही खिलेगा…’काशी को भव्य क्रिकेट स्टेडियम का तोहफा देने पर बोले PM मोदी

नई दिल्ली,

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी पहुंच गए हैं जहां एयरपोर्ट पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनका स्वागत किया. इसके बाद दोनों नेता एक खुली गाड़ी में वहां से बाहर निकले जहां लोगों द्वारा उनका फूल बरसाकर भव्य स्वागत किया गया. इसके बाद पीएम मोदी जातालाब गंजारी, वाराणसी में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम की आधारशिला रखी.

पीएम मोदी ने कहा कि आज मैं एक ऐसे दिन काशी आया हूं, जब चंद्रमा के शिवशक्ति पॉइंट पर भारत के पहुंचने का एक महीना पूरा हो रहा है. एक शिवशक्ति का स्थान चंद्रमा पर है और दूसरा शिवशक्ति का स्थान यहां काशी में है. उन्होंने कहा कि काशी में आज एक इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम की आधारशिला रखी गई है. अब देश का मिजाज़ ऐसा बना है कि जो खेलेगा, वही खिलेगा.

वरदान साबित होगा स्टेडियम
स्टेडियम का उद्घाटन अवसर पर पीएम मोदी ने कहा कि पूर्वांचल के युवाओं के लिए यह क्रिकेट स्टेडियम वरदान साबित होगा. उन्होंने कहा, ‘जबसे इस स्टेडियम की तस्वीरें बाहर आई है, उन्हें देखकर हर काशीवासी गदगद हो गया है. आज क्रिकेट के जरिए दुनिया भारत से जुड़ रही है. दुनिया के नए नए देश क्रिकेट खेलने के लिए आगे आ रहे हैं. जाहिर है कि आने वाले दिनों में क्रिकेट मैचों की संख्या भी बढ़ने जा रहे हैं. तो जब मैच बढ़ेंगे तो नए स्टेडियमों की जरूरत भी बढ़ेगी, तो बनारस का ये स्टेडियम भी इन जरूरतों को पूरा करेगा. इस स्टेडियम के पूरा होने पर 30,000 से ज्यादा लोग यहां बैठकर मैच देख पाएंगे. इसके निर्माण में बीसीसीआई का भी बहुत सहयोग होगा. मैं यहां का सांसद होने के नाते बीसीसीआई के सभी पदाधिकारियों का आभार व्यक्त करता हूं.’

हमने स्पोर्ट्स को करियर से जोड़ा
प्रधानमंत्री ने आगे कहा, ‘काशी का सांसद होने के नाते मैं यहां हुए बदलावों का भी साक्षी बना हूं. सांसद खेल प्रतियोगिता के दौरान जो उत्साह यहां रहता है, उसकी जानकारी भी मुझे मिलती रहती हैं. हमारा प्रयास वाराणसी के युवाओं को उच्च स्तरीय खेल सुविधाएं देने का है. इसी सोच के साथ इस नए स्टेडियम के साथ ही सिगरा स्टेडियम पर भी करीब 400 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं. खेलों में आज भारत को जो सफलता मिल रही है, वो देश की सोच में आए बदलाव का परिणाम है.हमने Sports को युवाओं की फिटनेस, रोजगार और उनके करियर से जोड़ा है.’

इस दौरान मंच पर यूपी सचिन तेंदुलकर, रोजर बिन्नी, सुनील गावस्कर, कपिल देव और जय शाह सहित सहित तमाम गणमान्य लोग मौजूद रहे. इस कार्यक्रम के बाद पीएम मोदी रुद्राक्ष अंतर्राष्ट्रीय कोऑपरेशन और कन्वेंशन सेंटर पहुंचेंगे और काशी संसद सांस्कृतिक महोत्सव 2023 के समापन समारोह में भाग लेंगे. कार्यक्रम के दौरान वह उत्तरप्रदेश में बने 16 अटल आवासीय विद्यालय का उद्घाटन भी करेंगे.

PM ने एक्स पर किया पोस्ट
अपने दौरे से पहले पीएम मोदी ने X पर पोस्ट करते हुए कहा, ‘बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी में आज होने जा रहे इन कार्यक्रमों में शामिल होने को लेकर बहुत उत्सुक हूं। इन परियोजनाओं से वाराणसी के साथ-साथ पूरे उत्तर प्रदेश की विकास यात्रा में और तेजी आएगी. आज दोपहर करीब 1:30 बजे वाराणसी में एक भव्य अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम की आधारशिला रखने के साथ ही 16 अटल आवासीय विद्यालयों के उद्घाटन का सौभाग्य प्राप्त होगा. इसके अलावा काशी सांसद सांस्कृतिक महोत्सव के समापन समारोह का भी हिस्सा बनूंगा.’

इन खूबियों से लैस होगा क्रिकेट स्टेडियम
वाराणसी में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का निर्माण आधुनिक विश्व स्तरीय खेल बुनियादी ढांचे को विकसित करने के प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण को साकार करने की दिशा में एक कदम होगा. वाराणसी के गांजरी, राजातालाब में बनने वाला आधुनिक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम लगभग 450 करोड़ रुपये की लागत से 30 एकड़ से अधिक क्षेत्र में विकसित किया जाएगा. इस स्टेडियम की विषयगत वास्तुकला की प्रेरणा भगवान शिव से ली गई है, जिसमें अर्धचंद्राकार छत के कवर, त्रिशूल के आकार की फ्लड-लाइट, घाट की सीढ़ियों पर आधारित बैठने की व्यवस्था, बिल्विपत्र के आकार की धातु की चादरों के डिजाइन विकसित किए गए हैं. इस स्टेडियम की क्षमता 30 हजार दर्शकों की होगी.

श्रमिकों के बच्चों के लिए हैं अटल आवासीय स्कूल
गुणवत्तापूर्ण शिक्षा तक पहुंच बढ़ाने के उद्देश्य से, उत्तर प्रदेश में लगभग 1115 करोड़ रुपये की लागत से बनाए गए 16 अटल आवासीय विद्यालय, विशेष रूप से मजदूरों, निर्माण श्रमिकों और कोविड-19 महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों के लिए शुरू किए गए हैं. इन विद्यालयों का उद्देश्य गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना और बच्चों के समग्र विकास में सहायता करना है. प्रत्येक स्कूल 10-15 एकड़ के क्षेत्र में बनाया गया है जिसमें कक्षाएं, खेल मैदान, मनोरंजक क्षेत्र, एक मिनी सभागार, छात्रावास परिसर, मेस और कर्मचारियों के लिए आवासीय फ्लैट हैं. इन आवासीय विद्यालयों में प्रत्येक में लगभग 1000 छात्रों को समायोजित किया जाएगा.

About bheldn

Check Also

घर में पत्नी ने की खुदकुशी तो अस्पताल में फांसी के फंदे से झूलती मिली पति की लाश

कोच्चि, केरल के कोच्चि में पत्नी की मौत के बाद एक शख्स निजी अस्पताल में …