NEET PG पर कांग्रेसी नेता बोले, BJP नेताओं के बच्चों को फायदे देने के लिए जीरो की गई कटऑफ

नई दिल्ली ,

कांग्रेस ने NEET पीजी क्वालीफाइंग प्रतिशत को शून्य करने के लिए सरकार की तीखी आलोचना की है. कांग्रेस ने रविवार को सरकार द्वारा NEET पीजी 2023 के लिए योग्यता प्रतिशत को शून्य तक कम करने को “शॉकिंग” बताया. साथ ही सरकार से यह सवाल पूछा है कि न्यूनतम बुनियादी मानकों को पूरी तरह से खत्म करने से किसे फायदा होता है.

दरअसल, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (MoHFW) ने बुधवार को सभी श्रेणियों में काउंसलिंग के लिए पात्र होने के लिए NEET PG 2023 के लिए योग्यता प्रतिशत को शून्य कर दिया था. इस पर कांग्रेसी नेता जयराम नरेश ने सरकार की मंशा पर सवाल उठाए हैं.

एक्स पर एक पोस्ट में, कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने लिखा कि मोदी सरकार ने पीजी-NEET के माध्यम से एमडी/एमएस डिग्री के लिए प्रवेश के लिए कटऑफ को शून्य प्रतिशत तक कम करने का “चौंकाने वाला” निर्णय लिया है जिससे परीक्षा में सबसे कम स्कोर करने वालों को पात्र बनाया जा सके.

सरकार ने क्यों ले लिया यू टर्न
उन्होंने कहा कि यह पिछले जुलाई में दिल्ली उच्च न्यायालय में सरकार द्वारा अपनाए गए रुख से पूरी तरह से यू-टर्न है. उन्होंने एक मीडिया रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट भी पोस्ट किया जिसमें सरकार ने पिछले साल उच्च न्यायालय को बताया था कि वह NEET-पीजी कट-ऑफ को कम नहीं कर सकती है ताकि शिक्षा का न्यूनतम स्तर कायम रखा जा सके.

“हालांकि अधिकांश इस बात से सहमत हैं कि मांगों को पूरा करने के लिए चिकित्सा शिक्षा तक पहुंच और डॉक्टरों की आपूर्ति को नाटकीय रूप से बढ़ाने की जरूरत है, न्यूनतम बुनियादी मानकों को पूरी तरह से खत्म करने से किसको फायदा होगा? सरकार और उसके ढोल पीटने वाले में योग्य लोग आज कहां हैं?

उन्होंने पूछा कि क्या इससे केवल उन निजी मेडिकल कॉलेजों को फायदा नहीं होगा जो भरी नहीं जा रही सीटें सबसे ऊंची बोली लगाने वाले को बेचना चाहते हैं. क्या यह यू-टर्न बहुत प्रभावशाली भाजपा नेताओं के बच्चों को लाभ पहुंचाने के लिए भी किया जा रहा है, जो इस तरह की छूट दिए बिना योग्य नहीं होते?.

क्वालीफाइंड उम्मीदवारों का पूल बढ़ेगा
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि NEET PG 2023 के लिए क्वालीफाइंग परसेंटाइल को घटाकर शून्य करने से क्वालीफाइंग उम्मीदवारों का पूल बढ़ जाएगा, लेकिन पीजी मेडिकल पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए योग्यता प्रणाली कमजोर नहीं होगी. उन्होंने कहा कि केवल उच्चतम अंक प्राप्त करने वालों को ही पीजी मेडिकल पाठ्यक्रमों में प्रवेश मिलेगा.

अधिकारियों ने कहा कि प्रवेश पारदर्शी काउंसलिंग प्रक्रिया के माध्यम से किया जाएगा और कुछ निजी कॉलेजों द्वारा कथित रूप से पिछले दरवाजे से प्रवेश की पेशकश को खत्म कर दिया जाएगा. उन्होंने इस अटकल को काल्पनिक बताया कि जीरो परसेंटाइल वाले छात्र भी विशेषज्ञ डॉक्टर बन सकते हैं.

उन्होंने कहा कि वास्तविकता यह है कि उच्चतम अंक वाले छात्र अपनी पसंद के पाठ्यक्रमों और कॉलेजों में प्रवेश के लिए अभी भी पात्र होंगे. बता दें कि देश में 68,142 पीजी मेडिकल सीटें हैं. जिनमें दाख‍िला लेने के लिए अब तक, 50 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाले उम्मीदवार NEET पीजी के माध्यम से मेडिकल पीजी प्रवेश के लिए काउंसलिंग प्रक्रिया में भाग लेने के पात्र थे. अधिकारियों ने कहा था कि पिछले साल योग्यता मानदंड 20 प्रतिशत रखा गया था, फिर भी ऑल इंडिया कोटा के तहत 3,000 सीटें खाली रह गईं थीं.

About bheldn

Check Also

दौलत बढ़े तो माननीयों जैसी! दोबारा लड़ रहे 324 सांसदों की संपत्ति में 5 साल में 43% की औसत बढ़ोतरी

नई दिल्ली लोकसभा चुनाव में फिर से चुनावी मैदान में उतरे 324 सांसदों की संपत्ति …