MP: झाड़ू लगाने से किया इनकार तो बच्चों का स्कूल से काट दिया नाम, सरकारी स्कूल का अनोखा मामला

गुना ,

सरकारी स्कूल में अगर शिक्षा ग्रहण करनी है तो झाड़ू लगानी पड़ेगी… ये वाकया मध्य प्रदेश के गुना जिले के टोरिया गांव का है. शासकीय माध्यमिक स्कूल में पढ़ने वाले भाई-बहन को केवल इसलिए स्कूल से निकाल दिया गया, क्योंकि उन्होंने कक्षा में झाड़ू लगाने से इनकार कर दिया था. पिता ने जब इस बात का विरोध किया तो दोनों बच्चों को स्कूल से ट्रांसफर सर्टिफिकेट (TC) देकर रवाना कर दिया गया. बेहद हैरान कर देने वाले इस मामले की शिकायत जनसुनवाई में कलेक्टर से की गई है.

गुना जिला मुख्यालय से महज 10 किमी दूर स्थित शासकीय माध्यमिक विद्यालय ग्राम टोरिया के स्कूल में महिला शिक्षक सोनू रघुवंशी ,रूपवती रघुवंशी व राधा साहू पर गंभीर आरोप लगे हैं.महिला शिक्षकों पर आरोप है कि उन्होंने स्कूल में पढ़ने वाले दो छात्रों को बेवजह स्कूल से बाहर कर दिया. कक्षा 5वीं में पढ़ने वाली एक छात्रा और उसके चौथी कक्षा में पढ़ने वाले भाई को स्कूल से बाहर कर दिया गया.

बच्चों ने बताया कि उनसे क्लास में झाड़ू-पोछा लगवाया जाता था. स्कूल टीचर उनसे काम करने का कहती थीं. यदि मना करते तो डांटती और मारपीट भी करती थीं. टीचर कहती थीं कि यदि झाड़ू लगाओगे तो पैसे भी देंगे. इसकी शिकायत जब बच्चों ने अपने माता पिता से की तो मामले का खुलासा हुआ. बच्चों के पिता ने जब खुद स्कूल पहुंचकर पड़ताल की तो टीचरों की कारस्तानी सामने आ गई.

आरोपों के घेरे में घिरी शिक्षिकाओं ने बताया कि बच्चों के पिता स्कूल में आकर अभद्रता करते हैं. हमारे ऊपर जानबूझकर आरोप लगाए जा रहे हैं.शिक्षा विभाग के हालातों को लेकर जब जिला शिक्षा अधिकारी चंद्रभान सिंह सिसोदिया से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि शिकायत के आधार पर जांच की जा रही है. जनसुनवाई में शिकायत मिली है. दोषी शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

About bheldn

Check Also

अपने बाप को बाप कहना चाहिए… दुकानों पर ‘नेमप्लेट’ विवाद को लेकर पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का बड़ा बयान

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के दुकानों पर नेमप्लेट लगाने को लेकर लिए गए फैसले …