वे सोचते हैं उन्हें भगवान से ज्यादा पता है… अब अमेरिका में राहुल ने कसा मोदी पर तंज

सैन फ्रांसिस्को ,

कांग्रेस नेता राहुल गांधी मंगलवार को अमेरिका के दौरे पर पहुंचे. यहां सैन फ्रांसिस्को में उन्होंने भारतीयों से मुलाकात की और उन्हें संबोधित किया. इस दौरान राहुल गांधी ने कहा कि कुछ महीने पहले हमने कन्याकुमारी से कश्मीर तक यात्रा शुरू की थी. मैं भी यात्रा कर रहा था. हमने देखा था कि भारत में राजनीति के जो सामान्य टूल थे (जैसे जनसभा, लोगों से बातचीत, रैली) वे अब काम नहीं कर रहे हैं. हमें राजनीति के लिए जिन संसाधानों की जरूरत पड़ती है, उन्हें बीजेपी और आरएसएस नियंत्रित कर रहे हैं. लोगों को धमकी दी जा रही है. एजेंसियों का इस्तेमाल किया जा रहा है. ऐसे में हमें लगा कि कहीं न कहीं भारत में अब राजनीति करना आसान नहीं रह गया. ऐसे में हमने यात्रा करने का फैसला किया.

राहुल ने पीएम मोदी पर कसा तंज
राहुल गांधी ने कहा, दुनिया इतनी बड़ी है कि कोई भी व्यक्ति यह नहीं सोच सकता कि वह सबके बारे में सबकुछ जानता है. यह एक बीमारी की तरह है कि भारत में कुछ लोग ऐसे हैं, जो सोचते हैं कि वे सबकुछ जानते हैं. मुझे लगता है कि उन्हें लगता है कि भगवान से ज्यादा जानते हैं. वे भगवान के सामने बैठकर उन्हें भी समझा सकते हैं कि क्या चल रहा है. पीएम मोदी भी उनमें से एक हैं.

राहुल ने कहा, मुझे लगता हैं कि पीएम मोदी से कहा जाए कि वे भगवान के सामने बैठ जाएं, तो वे भगवान को समझाने लगेंगे कि ब्रह्मांड में क्या चल रहा है. भगवान भी भ्रमित हो जाएंगे कि उन्होंने क्या बनाया है. भारत में यही चल रहा है. भारत में कुछ लोग ऐसे हैं, जो सबकुछ जानते हैं. जब वे वैज्ञानिक के पास जाते हैं, तो उन्हें विज्ञान के बारे में बताते हैं, जब वे इतिहासकार के पास जाते हैं, तो उन्हें इतिहास के बारे में बताते हैं. आर्मी को युद्ध के बारे में, एयरफोर्स को उड़ने के बारे में सबको सबकुछ बताते हैं. लेकिन सही बात ये है कि उन्हें कुछ समझ नहीं आता. क्योंकि अगर आप किसी को सुनना नहीं चाहते तो आप उसके बारे में कुछ नहीं जान सकते.

‘यात्रा में पूरा भारत हमारे साथ था’
राहुल ने कहा, जब हमने यात्रा शुरू की, सोचा देखेंगे कि क्या होता है? 5-6 दिन बाद हमें अहसास हो गया था कि हजारों किलोमीटर की यात्रा आसान नहीं है. मेरे घुटने की चोट से मुझे दिक्कत होने लगी. हमारे पास कोई विकल्प भी नहीं था. हम हर रोज 25 किलोमीटर की यात्रा कर रहे थे. तीन हफ्ते बाद चौंकाने वाली बात हुई. हमने अहसास किया कि हमें थकान नहीं हो रही है. मैंने अपने साथ चल रहे लोगों से पूछा कि क्या उन्हें थकान हो रही है, लोगों ने कहा कि थकान नहीं हो रही है.

राहुल गांधी ने कहा, हमें अहसास हो गया था कि हम अकेले यात्रा नहीं कर रहे हैं. पूरा भारत हमारे साथ यात्रा कर रहा है. जब लोगों का प्यार मिलता है तो थकान नहीं होती है. जब जुड़कर साथ चलते हैं, तो थकान नहीं होती है. हमने नफरत के बाजार में मोहब्बत की दुकान खोली. राहुल ने कहा, हमारे बारे में अच्छी बात ये हुई, हमारा हर किसी के लिए स्नेह था. जो भी कुछ कहना चाहता था, चाहें वह कुछ भी कहे, हम उसे सुनना चाह रहे थे. हम नाराज नहीं हो रहे थे. हम उन्हें प्यार कर रहे थे. यही प्रकृति है.

‘यात्रा को रोकने की कोशिश की गई’
राहुल गांधी ने कहा, उन्होंने (बीजेपी) ने पूरी कोशिश की कि हमारी भारत जोड़ो यात्रा को रोका जा सके. उन्होंने पुलिस और एजेंसियों का इस्तेमाल किया. लेकिन वे अपनी हर कोशिश में असफल हुए. आप सबने हमारी मदद की, इसलिए कुछ भी हमारे खिलाफ काम नहीं किया.

‘अमेरिका में भारत का तिरंगा उठाने के लिए धन्यवाद’
राहुल ने कहा, अगर आप गुस्सा, घृणा और नफरत रखते हैं, तो आपको बीजेपी की मीटिंग में बैठना चाहिए. मैं भी मन की बात कर रहा हूं. अमेरिका में भारत का तिरंगा उठाने के लिए धन्यवाद. ये अमेरिका के लोगों को ये बताना कि भारतीय होना क्या होता है. उनका और उनकी विचारधारा का सम्मान करके, उनसे सीखकर और उन्हें अपने से सीखने के लिए प्रेरित करने के लिए आप सभी का धन्यवाद. आप सभी हमारे एंबेसडर हैं. राहुल ने अपना संबोधन समाप्त करने के बाद लोगों से कहा कि वे सवाल पूछ सकते हैं और अपने विचार रख सकते हैं. जो बीजेपी की बैठकों में नहीं होता.

महिलाओं के आरक्षण और सुरक्षा के मुद्दे पर क्या बोले राहुल?
राहुल से जब महिलाओं के आरक्षण और सुरक्षा के मुद्दे पर सवाल किया गया, तो उन्होंने जवाब दिया कि महिलाओं के आरक्षण पर हम बिल लाना चाहते थे लेकिन हमारे कुछ सहयोगी इस पर राजी नहीं हुए और हम ऐसा नहीं कर पाए, लेकिन हम जब सत्ता में आए तो इस बिल को पास करेंगे. राहुल ने कहा, जहां तक महिलाओं की सुरक्षा की बात है, अगर हम महिलाओं को सशक्त करेंगे, हम महिलाओं को सरकार में हिस्सा देंगे, उन्हें बिजनेस में स्पेस देंगे, उन्हें पावर देंगे, तो उन्हें अपने आप ही सुरक्षा मिल जाएगी.

मुस्लिमों पर अत्याचार से जुड़े सवाल पर क्या बोले राहुल?
मुस्लिम समुदाय पर अत्याचार से जुड़े सवाल पर राहुल गांधी ने कहा, नफरत के बाजार में, मोहब्बत की दुकान खोलेंगे. मुसलमानों को लग रहा है कि उन पर ज्यादा हमले हो रहे हैं. लेकिन सिख, दलित, आदिवासी सभी ऐसा ही महसूस कर रहे हैं. हर कोई पूछ रहा है कि क्या चल रहा है? मुसलमान इसे अधिक महसूस करते हैं क्योंकि उनकी ओर अधिक केंद्रित किया जा रहा है.

लेकिन हम नफरत को नफरत से नहीं हरा सकते. हम प्यार से नफरत को हटाएंगे. भारत नफरत में विश्वास नहीं रखता. मीडिया, एजेंसियों और प्रशासन पर नियंत्रण रखने वाले लोगों का एक छोटा समूह है, जो नफरत में विश्वास करता है. आज भारत में मुसलमानों के साथ जो हो रहा है, वही भारत में और खासकर उत्तर प्रदेश में दलितों के साथ हो रहा है. लेकिन हम इसे चुनौती देंगे, इससे लड़ेंगे.

About bheldn

Check Also

गुजरात : BJP के खिलाफ क्षत्रिय समाज का आंदोलन तेज, शुरू किया ‘धर्म रथ’

गांधीनगर, राजकोट सीट से भाजपा के उम्मीदवार परसोत्तम रूपाला के बयान के बाद क्षत्रिय समाज …