शराब जरूरी है… मक्‍का-मदीना के देश सऊदी अरब में आम आदमी को म‍िलेगी शराब या नहीं, विदेश मंत्री ने कर दिया बड़ा ऐलान

रियाद:

सऊदी अरब में इस्लाम का सबसे पवित्र शहर है। इस्लाम में शराब हराम है, जिस कारण सऊदी में शराब नहीं मिलती है। सऊदी अरब के पर्यटन मंत्री अहमद अल खतीब ने कहा कि शराब नहीं बेचने के देश के फैसले से पर्यटन पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ा है। ब्लूमबर्ग के साथ एक इंटरव्यू में अल खतीब ने कहा, ‘शराब जरूरी है, लेकिन हमने इसे ऑफर न करने का फैसला किया है। अब तक लोग आ रहे हैं। वह सऊदी अरब में घूम रहे हैं। वो व्यापार के लिए आ रहे हैं, आराम के लिए आ रहे हैं और धार्मिक कारणों से आ रहे हैं। लेकिन उन्होंने कोई शिकायत नहीं की है।’

उन्होंने कहा, ‘वे भोजन, शॉपिंग और संस्कृति जैसी अन्य चीजों का आनंद ले रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि यह जारी रहेगा।’ सऊदी अरब तेल से अपनी निर्भरता को कम करते पर्यटन उद्योग को बढ़ाना चाहता है। सऊदी यह देख रहा है कि यूएई में अब लोग पर्यटन के लिए जा रहे हैं। सऊदी अरब ने अंतरराष्ट्रीय पर्यटक आगमन की वृद्धि के लिए संयुक्त राष्ट्र पर्यटन रैंकिंग में टॉप स्थान हासिल की है। 2019 की तुलना में 2023 में 56 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई है।

1 करोड़ से ज्यादा लोग पहुंचे सऊदी
रिपोर्ट के मुताबिक 2023 में 1.06 करोड़ लोगों ने सऊदी विजिट किया जो, उसके विजन 2030 के लक्ष्य को पार कर गया। यात्रा और पर्यटन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के विजन 2030 की आधारशिला हैं। सरकार नियोम सिटी जैसे कई पर्यटक स्थल विकसित कर रही है। इसके लिए उसने अरबों डॉलर का निवेश किया है। हालांकि हर बार सवाल उठता रहता है कि सऊदी में जब अल्कोहल नहीं मिलेगा तो आखिर टूरिस्ट कैसे आएंगे।

सऊदी ने खोली थी शराब की दुकान
इसी साल खबर आई थी कि सऊदी में पहली शराब की दुकान खोली गई है। 70 वर्षों में पहली बार सऊदी ने यह कदम उठाया था। हालांकि इस दुकान से जुड़े सख्त नियम हैं। यह दुकान रियाद के डिप्लोमैटिक क्वार्टर में एक सुपरमार्केट के बगल में है। न्यूज एजेंसी एपी ने एक राजनयिक के हवाले से इससे जुड़ी रिपोर्ट बताई थी। इस स्टोर से सिर्फ गैर मुस्लिम राजनयिकों को ही शराब मिल सकती है। यानी देश की बाकी 3.2 करोड़ की आबादी इससे शराब नहीं खरीद सकती। शराब खरीदने के लिए ऐप पर रजिस्ट्रेशन करना होगा। हर महीन का कोटा भी निर्धारित है। वहीं रजिस्ट्रेशन करने वाला ही शराब खरीद सकता है। अपनी जगह वह किसी दोस्त या ड्राइवर को नहीं भेज सकता।

About bheldn

Check Also

बंगाल: 2010 के बाद जारी सभी OBC प्रमाणपत्र HC से खारिज, ममता बोलीं- आदेश नहीं मानूंगी

कोलकाता, कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार को 2010 के बाद से पश्चिम बंगाल में जारी …